असम के एक टीचर ने बांग्लादेश का राष्ट्रगान संस्कृत में लिखने का कारनामा कर दिखाया है। असम के नगांव में रहने वाले ये व्यक्ति संस्कृत के ही अध्यापक है जिन्होंने मशहूर गायक भूपेन हजारिका की 8वीं बरसी पर यह काम किया है। रंजन बेजबरूआ नाम से इस अध्यापक का कहना है कि उनका यह काम करने के पीछे संस्कृत का पूरी दुनिया में प्रचार प्रसार करना है। इसके अलावा यह भारत और बांग्लादेश को आपस मे जोड़ने वाला भी है।

संस्कृत अध्यापक रंजन का कहना है कि बांग्लादेश के राष्ट्रगान का संस्कृत में अनुवाद करना हमारे समाज को कई मायनों में आगे बढ़ाने वाला है। उनके इस प्रयास से आने वाली पीढ़ियों में समृद्ध भारतीय भाषाओं समेत साहित्य और संगीत को जानने की जिज्ञासा बढ़ेगी। साथ ही यह लोग भाषाओं और संस्कृतियों को जान सकेंगे।