मणिपुर में तैनात असम राइफल्स आेडिआ जवान चंपेश्वर महाकुड़ शुक्रवार को उग्रवादियों के साथ हुर्इ मुठभेड़ में शहीद हो गया। चंपेश्वर महाकुड़ सुबलपुर का रहने वाला था। शनिवार को देर शाम उसके शहीद होने की खबर मिलने पर जिले में शोक की लहर फैल गई।


संबलपुर जिला के रेढ़ाखोल ब्लाक अंतर्गत धौराखमन गांव निवासी सुबद्धि महाकुड़ का पुत्र चंपेश्वर महाकुड वर्ष 2001 में असम राइफल्स में शामिल हुआ था। वर्तमान समय में मणिपुर के चांदेल जिला के जैपी में तैनात था। शुक्रवार को चंपेश्वर अपनी बटालियन के साथ तलाशी अभियान में निकला था और इसी दौरान उग्रवादी संगठन-पीपुल्स लिबरेशन आर्मी, (पीएलए) के साथ मुठभेड़ हो गई। इसी घटना में चंपेश्वर शहीद हो गया।

शहीद चंपेश्वर के परिवार में माता-पिता के अलावा पत्नी मधुस्मिता महाकुड़ और आठ वर्ष का पुत्र देवजीत महाकुड़ हैं। देवजीत पढ़ाई के लिए अपनी मां के साथ अनुगुल में रहता है। चंपेश्वर के शहीद होने की खबर मिलते ही दोनों धौराखमन पहुंच गए। रविवार को रेढ़ाखोल विधायक व इंजीनियर रोहित पुजारी, कांग्रेस नेता आसफ अली खान, रेढ़ाखोल उपजिलाधीश, तहसीलदार, बीडीओ आदि ने शहीद के घर पहुंचकर संवेदना प्रकट की।