केरल में पिछले साल 30 वर्षीय दलित छात्रा जिशा के बलात्कार और हत्या के सनसनीखेज मामले में दोषी पाए गए अमीरुल इस्लाम को अदालत ने आज मौत की सजा सुनाई है लेकिन जिशा-हत्या के मुख्य आरोपी अमीरुल इस्लाम पर बकरी के साथ भी बलात्कार करने का आरोप है।

जिशा हत्या की जांच कर रहे विशेष जांच दल ने अमिरुल इस्लाम के खिलाफ अप्राकृतिक सेक्स का मामला भी दर्ज किया है। इस हैवान की दरिंदगी इस कदर थी कि इसने ना सिर्फ जिशा के साथ रेप किया बल्कि इसने बेजुबान जानवर को नहीं छोड़ा और उसके साथ भी बलात्कार किया।


अपराध के कुछ दिनों पहले उसने अपने एक पड़ोसी की बकरी के साथ बलात्कार किया था और यही नहीं बकरी के पाइवेट पार्ट को भी क्षति पहुंचाई थी इस बात का खुलासा एक वीडिओ के जरिए हुआ जिसमें आरोपी बकरी के साथ बलात्कार करता दिखाई दे रहा था यह वीडियो उसके साथ रह रहे अन्य प्रवासी मजदूर द्वारा रिकॉर्ड किया गया था। जिसके बाद एक मुखबिर ने यह वीडियो जांच दल को भेजा था
 


इस शर्मनाक घटना में शक होने पर घायल बकरी को पशु चिकित्सा अस्पताल ले जाया गया था। जहां जांच में पता चला की बकरी की जननांग अंग घायल हो गए थे। पूछताछ के दौरान, अमीरुल ने कहा कि उन्होंने एक पत्थर का उपयोग करके बकरी को घायल करने की कोशिश की लेकिन ऐसा लगता है कि उसने एक तेज वस्तु का उपयोग शायद एक चाकू से इस घृणित क्राइम को अंजाम दिया था।

गौरतलब है कि इस्लाम पर 28 अप्रैल 2016 को पेरुम्बावूर में महिला का बलात्कार और हत्या करने का आरोप लगाया गया। गत वर्ष अप्रैल से शुरू हुए मुकदमे के दौरान 100 गवाहों के बयान दर्ज किए गए। उसने गरीब परिवार से ताल्लुक रखने वाली महिला का उसके घर पर हत्या किए जाने से पहले नुकीले औजारों से बर्बर तरीके से उत्पीड़न किया गया।


असम से एक प्रवासी श्रमिक अमेरुल को हाल ही में एर्नाकुलम के मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट ने बलात्कार और जिशा की हत्या, एक कानून के छात्र द्वारा दोषी पाया गया है जिसके बाद उसे फांसी की सजा दे दी गयी है।