पहली बार राज्य में आयोजित दो दिवसीय एडवांटेज असम वैश्विक निवेशक सम्मेलन में राज्य के पर्यटन क्षेत्र में 1200 करोड़ का निवेश होगा। पर्यटन मंत्री डॉ. हिमंत विश्व शर्मा ने रविवार को इस आशय की जानकारी दी।


उन्होंने बताया कि सदिया से गुवाहाटी के चंद्रपुर तक पर्यटन सूचना का ढांचागत विकास होगा। प्रत्येक सूचना केंद्र की स्थापना में 500 करोड़ का खर्च होगा। इस संबंध में पर्यटन विभाग के साथ निवेशक कंपनियों का हस्ताक्षर हुआ है। पहली बार राज्य में आयोजित दो दिवसीय एडवांटेज असम वैश्विक निवेशक सम्मेलन में करीब एक लाख करोड़ रुपए के निवेश के लिए करीब 200 समझौते हुए। देश-विदेश के निवेशकों के आने से असम में निवेश का एक नया महौल बना।


इस मौके पर असम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने कहा कि राज्य में पहले वैश्विक निवेशक शिखर सम्मेलन में पेट्रोलियम, दूरसंचार, स्वास्थ्य एवं पर्यटन समेत विभिन्न क्षेत्रों में करीब 70,000 करोड़ रुपये निवेश के संकल्प जताये गये। सोनोवाल ने कहा, ‘‘यह एक अच्छी शुरूआत है। निवेशकों की प्रतिक्रिया काफी उत्साहजनक है। मुझे भरोसा है कि ये निवेश प्रतिबद्धतायें असम को बेहतर अर्थव्यवस्था बनाएंगी।’


उन्होंने कहा कि ‘एडवांटेज असम’ शिखर सम्मेलन में 70,000 करोड़ रुपये के निवेश प्रतिबद्धता को लेकर करीब 200 शुरूआती समझौतों (एमओयू) पर हस्ताक्षर किये गये। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दो दिवसीय कार्यक्रम का कल उद्घघाटन किया। सम्मेलन में भूटान के प्रधानमंत्री शेरिंग तोबगे, कई केंद्रीय मंत्री, पड़ोसी राज्य अरुणावल प्रदेश तथा मणिपुर के मुख्यमंत्री, 16 देशों के राजदूत तथा उच्चायुक्त, रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन मुकेश अंबानी, टाटा संस के चेयरमैन एन चंद्रशेखरन समेत अन्य ने भाग लिया।इस सम्मेलन में ऑस्ट्रेलिया, बांग्लादेश, भूटान, कनाडा, कंबोडिया, जर्मनी, हांगकांग, इजरायल, इटली, इंडोनेशिया, जापान, दक्षिण कोरिया, लाओस, म्यांमार, नीदरलैंड, नेपाल, सिंगापुर, वियतनाम आदि के प्रतिनिधियों ने भाग लिया और असम सरकार के अधिकारियों तथा भारतीय उद्यमियों के साथ विचार-विमर्श किया।


इसके साथ ही रिलायंस असम के बाजार में अपनी उपस्थिति को और मजबूत बनाने के लिए अतिरिक्‍त 2500 करोड़ रुपए का निवेश करेगी। इस निवेश के तहत कंपनी यहां अपने रिटेल आउटलेट्स की संख्‍या को बढ़ाकर 40 करेगी, जो वर्तमान में अभी दो हैं। उन्‍होंने कहा कि यहां पेट्रोल डिपो की संख्‍या को भी मौजूदा 27 से बढ़ाकर 165 किया जाएगा। इस सम्मेलन में केंद्रीय मंत्री सुरेश प्रभु, रविशंकर प्रसाद, धर्मेंद्र प्रधान, अश्विनी चौबे के साथ अरुणाचल के मुख्यमंत्री पेमा खांडू और मणिपुर के मुख्यमंत्री पेमा खांडू और मणिपुर के मुख्यमंत्री बीरेन सिंह की भागीदारी ने इसके महत्व को बढ़ाया है।


मालूम हो कि मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल मुख्यमंत्री बनने के बाद से लगातार से राज्य में निवेश की नई संभावनाओं के लिए प्रयास कर रहे हैं। यह वैश्विक निवेशक सम्मेलन उस दिशा में एक बड़ा प्रयास था। निवेशक सम्मेलन के समापन सामारोह में सोनोवाल ने इस बात को रेखांकित किया कि राज्य की युवा पीढ़ी के लिए यह सम्मेलन एक अवसर है। इसकी सफलता का श्रेय आयोजन में लगी पूरी टीम को जाता है। लेकिन यहीं पर नहीं रुकना है। रास्ता लंबा है और सभी को मिलकर लक्ष्य की तरफ आगे बढ़ना होगा। इन प्रयासों का असम के साथ संपूर्ण पूर्वोत्तर को लाभ मिलेगा।