विश्वस्तर की प्रतियोगिता में गोल्ड मेडल जीतकर रातों रात सुपर स्टार बनीं हिमा दास पर सौगातों की बारिश हो रही है। पहले असम सरकार ने हिमा दास को 50 लाख रुपए देने की घोषणा की। वहीं अब उन्हें राज्य का ब्रांड एंबेसडर (खेल) बनाने का ऐलान किया है। मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल ने कहा कि सरकार ने हिमा को खेलों के लिए ब्रांड एंबेसडर बनाने का फैसला किया है। बता दें कि हिमा दास ने गुरुवार को महिलाओं की 400 मीटर फाइनल रेस में गोल्ड मेडल जीत कर इतिहास रच दिया था।

सोनोवाल ने कहा कि असम की इस लड़की ने एक विश्वस्तरीय प्रतियोगिता में गोल्ड मेडल जीतने वाली पहली भारतीय बन कर एक अहम उपलब्धि हासिल की है। उन्होंने हिमा के लौटने पर एक राज्य स्तरीय समारोह में उसका सम्मान करने का भी एलान किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य के प्रतिभाशाली खिलाडिय़ों को प्रोत्साहन देने और नई पीढ़ी में खेलों के प्रति दिलचस्पी पैदा करने के लिए सरकार ने हिमा को खेलों के लिए राज्य का ब्रांड एंबेसडर बनाने का फैसला किया है। उन्होंने उम्मीद जताई कि हिमा अगले महीने जकार्ता में होने वाले एशियाई खेलों में भी अपना प्रदर्शन दोहराने में कामयाब रहेगी।

बता दें कि हिमा दास को सरकार की टारगेट ओलिंपिक पोडियम योजना के तहत 2020 तोक्यो ओलिंपिक तक आर्थिक सहायता दी जाएगी। हिमा फिनलैंड में हुई आईएएएफ अंडर 20 विश्व एथलेटिक्स चैंपियनशिप में 400 मीटर दौड़ में स्वर्ण पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला बनी। स्पोटर्स इंडिया की महानिदेशक नीलम कपूर ने इसकी पुष्टि की है। 

उन्होंने कहा, हिमा को राष्ट्रमंडल खेलों में शानदार प्रदर्शन के बाद मंत्रालय की टारगेट ओलिंपिक पोडियम योजना में शामिल किया गया। उन्होंने कहा, योजना के तहत उसे 50,000 रुपये महीने आउट ऑफ पाकेट ( ओपीए) भत्ता और ओलिंपिक की तैयारी तक पूरी आर्थिक सहायता दी जाएगी। असम के नगांव जिले की रहने वाली हिमा ने 51.46 सेकंड में दूरी तय करके गोल्ड मेडल जीता। शुरुआती सूची के तहत हिमा को एशियाई खेलों तक ही सहायता मिलनी थी।