असम सरकार ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की देश के पूर्वोत्तर इलाके में पर्यटन बढ़ाने के अनुरोध को आगे बढ़ाते हुए अहमदाबाद, मुंबई और पुणे जैसे शहरों में रोडशो आयोजित किए। इन रोडशो का मकसद घरेलू पर्यटकों को असम की रमणीक वादियों के प्रति आकर्षित करना और राज्य का पर्यटन बढ़ाना है।


उल्लेखनीय है कि स्वतंत्रता दिवस के मौके पर अपने राष्ट्र के नाम संबोधन में मोदी ने लोगों से पूर्वोत्तर को अपनी पर्यटक स्थली के रूप में चुनने का अनुरोध किया था।


असम के पर्यटन विभाग ने केंद्र सरकार के पर्यटन मंत्रालय के साथ मिलकर उपरोक्त शहरों में रोडशो किया। असम के पर्यटन मंत्री चंदन ब्रह्मा ने विज्ञप्ति में कहा कि उनके विभाग का लक्ष्य ना केवल असम की अनछुई सुंदरता को पर्यटन के लिए बढ़ावा देना है, बल्कि राज्य की समृद्धि संस्कृति, चाय बागान, वन्यजीवन और अन्य पर्यटन स्थानों के बारे में पर्यटकों के बीच कौतूहल बढ़ाना है।


उन्होंने बताया कि वर्ष 2018-19 में असम की यात्रा करने वाले घरेलू यात्रियों की संख्या 60,27,002 थी। इस साल हमें इसमें उल्लेखनीय वृद्धि की उम्मीद है। इस साल हमारा लक्ष्य सालाना नदी उत्सव ‘द्विजिंग महोत्सव’ में 15 लाख पर्यटकों के आगमन का है।