असम के मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल ने आईएएएफ विश्व अंडर-20 एथलेटिक्स चैंपियनशिप की 400 मीटर दौड़ स्पर्धा में ऐतिहासिक जीत हासिल करने वाली देश की नयी उडऩ परी हिमा दास को 50 लाख रुपये का पुरस्कार देने की घोषणा की है। 

फिनलैंड के टैम्पेयर शहर में 18 साल की हिमा दास ने इतिहास रचते हुए विश्व एथलेटिक्स चैंपियनशिप की ट्रैक स्पर्धा में स्वर्ण पदक जीतने वाली पहली भारतीय बन गई हैं। सोनोवाल ने कहा कि राज्य सरकार दास को पुरस्कार स्वरूप 50 लाख रुपये देगी। इससे पहले पूर्व मुख्यमंत्री तरुण गोगोई ने अपने माता-पिता के नाम से चलाये जा रहे न्यास की ओर से दास को एक लाख रुपये देने की घोषणा की है। इसके अलावा असम ओलंपिक एसोसिएशन ने भी नयी उडऩ परी को दो लाख रुपये का पुरस्कार देने की घोषणा की है। पूर्व मंत्री गोतम रॉय भी दास को एक लाख रुपये पुरस्कार स्वरूप देंगे। 

दूसरी तरफ  हिमा दास को सरकार की टारगेट ओलिंपिक पोडियम योजना के तहत 2020 तोक्यो ओलिंपिक तक आर्थिक सहायता दी जाएगी। हिमा फिनलैंड में हुई आईएएएफ अंडर 20 विश्व एथलेटिक्स चैंपियनशिप में 400 मीटर दौड़ में स्वर्ण पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला बनी। स्पोटर्स इंडिया की महानिदेशक नीलम कपूर ने इसकी पुष्टि की है। 

उन्होंने कहा, हिमा को राष्ट्रमंडल खेलों में शानदार प्रदर्शन के बाद मंत्रालय की टारगेट ओलिंपिक पोडियम योजना में शामिल किया गया। उन्होंने कहा, योजना के तहत उसे 50,000 रुपये महीने आउट ऑफ पाकेट ( ओपीए) भत्ता और ओलिंपिक की तैयारी तक पूरी आर्थिक सहायता दी जाएगी। असम के नगांव जिले की रहने वाली हिमा ने 51.46 सेकंड में दूरी तय करके गोल्ड मेडल जीता। शुरुआती सूची के तहत हिमा को एशियाई खेलों तक ही सहायता मिलनी थी।