राजस्थान के रामगढ़ से असम की एक युवती मानव तस्करों के चंगुल से भागने में सफल रही। पुलिस पूछताछ में खुलास हुआ कि युवती को उसके ही भाई ही एक लाख रुपए में मानव तस्करों को बेच दिया था। दरअसल, दो मानव तस्कर युवती को बाइक पर हरियाणा लेकर जा रहे थे, इसी दौरान युवती ने चलती बाइक से कूदकर अपनी जान बचाई। इस दौरान स्थानीय ग्रामीण भी युवती को बचाने के लिए आगे आए, जिसे देखकर तस्कर मौके से फरार हो गए।


थानाधिकारी अजीत सिंह बडसरा के अनुसार युवती पुनीहेरा थाना बिनाई जिला गुवाहाटी असम की रहने वाली है। उसने बताया कि आठ-दस दिन पहले उसके भाई घूमने के लिए दिल्ली लेकर आए। ट्रेन से आए तो रास्ते में हनीफ  मिला और खैरथल आ गए। यहां भाई उसे हनीफ  के पास छोड़ गए। यहां रमजान मिला दोनों उसे कैथवाड़ा लेकर आ गए। यहां जब उसने अपने भाई के बारे में पूछा तो पता चला कि उसे एक लाख रुपए में बेच दिया गया है।


इसके बाद युवती को सीकरी लाया गया। यहां से उसे हरियाणा लेकर जा रहे थे। इस दौरान कस्बे में इनके चंगुल से बचने के लिए भीड़ देखकर उसने शोर मचा दिया। थानाधिकारी के अनुसार युवती के बयानों से स्पष्ट हुआ है कि यह मामला मानव तस्करी का है युवती को एक से दूसरे के पास बेचने के लिए ले जाया जा रहा था। पुलिस ने मामला दर्ज कर आरोपियों की तलाश शुरू कर दी है।