भारत के असम राज्य को लेकर चौंकाने वाली रिपोर्ट सामने आई है। इस रिपोर्ट में बताया गया है कि इस राज्य में 20 से ज्यादा देशों के लोग रह रहे हैं जिनमें 50 फीसदी अकेले बांग्लादेश के रहने वाले हैं। इस राज्य में 64000 से अधिक बांग्लादेशी रह रहे हैं। यह आंकड़ा राज्य में रह रहे 1.1 लाख विदेशियो में का 56 फीसदी है जो अपने आप में चौंकाने वाला है। वहीं, पाकिस्तानी भी बड़ी तादात में रह रहे हैं।

कब कितने आए

रिपोर्ट में बताया गया है कि 1991 से पहले असम में 56550 बांग्लादेशी आए थे। इसके बाद 1992 से 2001 के बीच में 2198, 2002 से 2006 के बीच में 984, 2007 से 2010 के बीच में 722 तथा पिछले एक वर्ष से भी कम समय में 228 बांग्लादेशी असम में आकर बसे थे। हालांकि 3455 कब आए इस बारें कोई जानकारी उपलब्ध नहीं हो पाई।

असम में इतने विदेशी

1991 की जनगणना के अनुसार असम में कुल 3.39 लाख विदेशी प्रवासी थे इनमें से 2.88 लाख प्रवासी अकेले बांग्लादेशी थे। हालांकि इसके अगले दशक में इनकी संख्या में कमी आई और यह आंकड़ा 1.9 लाख हो गया, लेकिन इसके अलावा 1.64 लाख बांग्लादेशी भी आए। साल 2011 की जनगणना के अनुसार राज्य में रहने वाले विदेशियों की संख्या 4.95 लाख पहुंच गई।

इतने देशों के लोग रह रहे

रिपोर्ट के अनुसार असम में रहने वाले विदेशी प्रवासियों में अफगानिस्तान के 7284, भूटान के 581, चीन के 8, इंडोनेशिया के 4, ईरान के 7, इराक के 2, कुवैत के 77, मलेशिया के 4, मालदीव का 1, म्यांमार के 310, नेपाल के 8754, पाकिस्तान के 3726, सउदी अरब के 27, सिंगापुर के 48, श्रीलंका के 5, टर्की के 4, यूएई के 50, कजाकिस्तान के 56, वियतनाम के 12, अन्य एशियाई देशों से 3302 शामिल हैं।

इन राज्यों लोग भी रह रहे

असम में भारत के अन्य राज्यों के लोग भी प्रवास कर रहे हैं इनमें सबसे ज्यादा आंकड़ा बिहार का है। यहां पर अन्य राज्यों के कुल मिलाकर 4.95 प्रवासी रह रहे हैं। इनमें 1.47 लाख बिहार के, 94000 पश्चिम बंगाल के, 40000 मेघालय के, 39000 त्रिपुरा के तथा 35000 से अधिक उत्तरप्रदेश के हैं।