असम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने नागरिकता कानून को लेकर मुस्लिम असमिया लोगों के लिए बड़ा ऐलान किया है। इस समय नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ असम में विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं, लेकिन इसी बीच मुख्यमंत्री ने लोगों को आश्वासन दिया है कि उनके अधिकार पूरी तरह सुरक्षित हैं। सोनोवाल ने कहा है कि कुछ लोग जनता को गुमराह कर रहे हैं। 

असम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने यह भी कहा हैकि नागरिकता संशोधन कानून से असम की संस्कृति, पहचान या लोगों को कोई खतरा नहीं है। असम में हालात शांतिपूर्ण और सामान्य हैं। इंटरनेट सेवाएं भी शुक्रवार से बहाल कर दी गई हैं। उन्होंने कहा कि मैं लोगों को आश्वस्त करना चाहता हूं कि कोई भी असम के बेटों के अधिकारों को नहीं चुरा सकता है, हमारी भाषा या हमारी पहचान के लिए कोई खतरा नहीं है।

नागरिकता कानून के खिलाफ अभी पूरे असम राज्य में विरोध प्रदर्शन हुए हो रहे हैं। कई सामाजिक संगठनों और विपक्षी दलों ने गुवाहाटी और राज्य के कई स्थानों पर धरने दिए। हालांकि कहीं से हिंसा की कोई खबर नहीं आई। गुवाहाटी उच्च न्यायालय बार संघ ने अदालत परिसर के अंदर ‘सत्याग्रह’ किया और ऑल असम स्टूडेंट्स यूनियन (आसू) द्वारा आयोजित राज्यव्यापी आंदोलन में भाग लिया।

अब हम twitter पर भी उपलब्ध हैं। ताजा एवं बेहतरीन खबरों के लिए Follow करें हमारा पेज : https://twitter.com/dailynews360