असम भाजपा के प्रवक्ता सैयद मोमिनुल अवल ने कहा है कि इस्लाम में जय श्रीराम बोलने की मनाही नहीं है। उन्होंने कहा है कि मुसलमान बिना किसी हिचकिचाहट के जय श्रीराम बोल सकते हैं। राम वहां के राजा थे जिसको हम राम राज्य कहते हैं। राम एक युग निर्माता थे।

मोमिनुल असम अल्संख्यक विकास बोर्ड के चेयरमैन भी हैं। उनका यह बयान उस समय आया है जब असम समेत देश के अलग—अलग हिस्सों से मुस्लिमों के साथ जय श्रीराम बुलवाने को लेकर मॉब लिंचिंग के तथाकथित मामले सामने आए हैं।

उन्होंने यह भी कहा कि इस्लाम को मानने वाले लोग जीजस क्राइस्ट, हनुमान तथा शंकरगुरू की भी जय बोल सकते हैं, क्योंकि ये सब युग निर्माता थे। ऐसे में इस तरह के महान लोगों की जय बालने में किसी भी प्रकार से धार्मिक भावना आहत नहीं होती।

मोमिनुल ने कहा है कि जय श्रीराम के नारे को लेकर मॉब लिंचिंग की घटनाओं को बड़ा रूप देकर कुछ लोग धार्मिक रंग देने की कोशिश कर रहे हैं। ऐसा करने के पीछे उनका मकसद असम में आने वाले विधानसभा चुनावों में भाजपा को नुकसान पहुंचाने का है। लेकिन भाजपा एकबार फिर से 2021 के विधानसभा चुनावों में अपनी पार्टी की सरकार बनाएगी।