असम में भाजपा के नेतृत्व वाली गठबंधन सरकार के मंत्रियों पर भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप लगाने वाले तेजपुर से भाजपा सांसद आरपी शर्मा ने गुरुवार को प्रदेश भाजपा अध्यक्ष रंजीत दास से मुलाकात की। शर्मा ने अपना स्टैंड दोहराया। उन्होंने कहा कि मैंने जो कुछ भी कहा है उस पर कायम हूं। मैं पार्टी की ओर से की जाने वाली किसी भी कार्रवाई का सामना करने के लिए तैयार हूं। बकौल शर्मा, मैंने जो कुछ भी कहा है वह पार्टी के लिए अच्छा है। मैं पार्टी को अपनी मां के रूप में मानता हूं। मैंने कभी पार्टी के हितों के खिलाफ काम नहीं किया है। इस मामले पर पार्टी जो भी फैसला लेती है वह स्वीकार करने के लिए तैयार हूं। इस बीच भाजपा ने मसले पर चर्चा के लिए 7 अक्टूबर को आपात बैठक बुलाई है।

सूत्रों के मुताबिक सांसद शर्मा पार्टी के डेकोरम और नियमों के खिलाफ गए हैं। इस कारण उन्हें पार्टी में अपनी जगह खोनी पड़ सकती है। प्रदेश भाजपा अध्यक्ष रंजीत दास ने मीडिया से कहा कि दोषी लोगों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी चाहे व विधायक हो या सांसद। अगर आरोपों की सही सबूतों से पुष्टि होती है तो कार्रवाई की जाएगी। इससे पहले सांसद शर्मा ने फेसबुक पर एक पोस्ट की। इसमें उन्होंने लिखा, कमल सिर्फ एक दिन में नहीं खिलता है। भाजपा एक दिन में नहीं बनी है। कमल को खिलने में 36 साल का लंबा वक् लगा है। भाजपा को केन्द्र व असम में पूर्ण बहुमत की सरकार बनाने में लंबा वक्त लगा। चायवाला प्रधानमंत्री बन गया। मुलुकगांव का एक सिंपल यंग मैन असम में मुख्यमंत्री बन गया। ऐसा भी वक्त था जब कोई भाजपा में शामिल नहीं होना चाहता था। तब हमें एक एक को पकड़कर भाजपा में लाना पड़ता था। स्टेट एग्जिक्यूटिव्स की मीटिंग में मुश्किल से दो दर्जन सदस्य ही शामिल होंगे। हमें स्टाफ और पार्टी दफ्तर का किराया देने के लिए खुद के बीच मंथली सब्सक्रिप्शन कलेक्ट करना पड़ता है।

अभी भी हम में से कुछ ही लोग हैं जिन्होंने अपनी जिंदगी की रिस्क ली। इसलिए पार्टी ईंट दर ईंट जोड़कर बनी। कई कार्यकर्ता और नेता विधायक और सांसद का चेहरा देखा बिना गुजर गए। 1976 में मुझे संघ ने प्रशिक्षित किया। संघ की शिक्षा और आदर्श अन्य कार्यकर्ताओं की तरह मेरे दिलो दिमाग में अभी भी जिंदा हैं। कोई मुझे पागल, मानसिक रूप से असंतुलित और कुंठित कह सकता है। यह उसकी चिंता और समस्या है लेकिन मेरी चिंता यह है कि मेरी पार्टी और कमल पूरे भारत और पूर्वोत्तर में खिलना चाहिए। मुझे भाजपा बहुत प्यारी है और मैं इसका जैविक मां के रूप में सम्मान करता हूं।