कोरोना वायरस अब देश के लगभग हर राज्य में फैल चुका है। इसी बीच पूर्वोत्तर राज्य असम में 12 लोग कोरोना वायरस पॉजिटिव पाए गए है। इसके साथ ही अब असम में कुल 13 मामले सामने आ चुके हैं। यह सभी निजामुद्दीन के मरकज में आयोजित तब्लीगी जमात में शामिल थे। राज्य के स्वास्थ्य मंत्री डॉ.हिमंत विश्व शर्मा ने जानकारी देते हुए संख्या में बढ़ोतरी होने की आशंका भी व्यक्त की।

 

मंगलवार को सिलचर मेडिकल कॉलेज अस्पताल में कोरोना वायरस का एक पॉजीटिव मामला सामने आया था जबकि बुधवार को गुवाहाटी मेडिकल कॉलेज अस्पताल में चार और जोरहाट मेडिकल कालेज अस्पताल में आठ नए पॉजीटिव मामले सामने आए हैं। तेरह लोगों का स्वास्थ्य स्थिर बताया गया है। उधर अब भी इस कार्यक्रम में शामिल हुए और वापस लौटकर न आए चार लोग भी पॉजीटिव पाए गए हैं। यह सभी दिल्ली में ही बताए जा रहे हैं। मंत्री ने बताया कि इस जलसे में हिस्सा लेने वाले 347 लोग लौट आए हैं इनमें से 117 लोग जांच के लिए सामने नहीं आए हैं। वे खुले में घूम रहे हैं। यह खतरनाक हैं। मंत्री ने इन सबसे मीडिया के जरिए अपील की कि वे खुद-ब-खुद जांच के लिए सामने आएं। अन्यथा वे अपने परिवार और समाज के लिए खतरा बनेंगे। पॉजीटिव पाए गए व्यक्तियों के संपर्क में आए व्यक्तियों की तलाश कर उन्हें भी क्वारेंटाइन में रखा जा रहा है।

डॉ. शर्मा ने कहा कि हमें डर था कि राज्य के लोग जो अन्य राज्यों में काम कर रहे थे और वापस आए हैं उनसे खतरा हो सकता है। लेकिन इसके उलट हमें निजामुद्दीन से आए लोग ही पॉजीटिव मिले। इससे खतरा और बढ़ गया है। ये लोग इतने दिनों तक किस-किस से मिले हैं और कोरोना फैलाया है, यह आने वाले समय में पता चलेगा। निश्चित तौर पर यह चिंता का विषय है।