रोहित शर्मा की कप्तानी वाली इंडिया टीम एशिया कप 2022 से लगभग बाहर हो चुकी है। टीम इंडिया को एशिया कप 2022 के सुपर 4 स्टेज में पहले पाकिस्तान ने 5 विकेट से हराया। इसके बाद भारतीय टीम को श्रीलंका ने भी 6 विकेट से मात देकर टूर्नामेंट से लगभग बाहर कर दिया है। भारतीय टीम के एशिया कप 2022 के फाइनल में पहुंचने के चांस अब बेहद कम हैं।

ये भी पढ़ेंः कार में बैठे सभी यात्रियों के लिए सीटबेल्ट लगाना अनिवार्य होगा : नितिन गडकरी

इंडिया टीम की इस हालत का जिम्मेदार कप्तान रोहित शर्मा और भारतीय टीम मैनेजमेंट का एक गलत फैसला है। एशिया कप 2022 में टीम इंडिया ने एक खिलाड़ी को मौका नहीं देकर अपनी हार तय कर दी। अगर ये खिलाड़ी एशिया कप में खेलता तो टीम इंडिया टूर्नामेंट से बाहर होने की कगार पर नहीं पहुंचती।

एशिया कप में टीम इंडिया की हार तब ही तय हो गई थी, जब सेलेक्टर्स ने श्रेयस अय्यर जैसे मिडिल ऑर्डर के माहिर बल्लेबाज को इस टूर्नामेंट के लिए नहीं चुना। श्रेयस अय्यर को सिर्फ स्टैंडबाय खिलाड़ियों में रखा गया। अगर ये खिलाड़ी खेलता तो टीम इंडिया का मिडिल ऑर्डर एशिया कप में इतनी बुरी तरह नहीं बिखरता।

श्रेयस अय्यर को एशिया कप में नहीं चुनकर सेलेक्टर्स ने दीपक हुड्डा को मौका दिया, वो भी इसलिए क्योंकि वह बल्लेबाजी के साथ थोड़ी बहुत गेंदबाजी भी कर लेते हैं। हैरानी की बात ये रही कि दीपक हुड्डा ने इस एशिया कप में अभी तक एक भी बार गेंदबाजी नहीं की है। ऐसे में श्रेयस अय्यर को शामिल करना ही टीम इंडिया के लिए फायदे का सौदा साबित होता। ये चूक ही एशिया कप 2022 में टीम इंडिया की फजीहत का कारण बनी है। 

ये भी पढ़ेंः पुणे में महिला की निर्मम हत्या, बेटे और पोते ने मिलकर मां के किए टुकड़े-टुकड़े

श्रेयस अय्यर ने अपना आखिरी टी20 इंटरनेशनल मैच 7 अगस्त 2022 को वेस्टइंडीज के खिलाफ खेला था। इस मैच में श्रेयस अय्यर ने अपना रौद्र रूप दिखाते हुए 40 गेंदों पर 64 रन ठोक दिए थे। इस शानदार प्रदर्शन के बावजूद भी सेलेक्टर्स ने श्रेयस अय्यर की जगह फ्लॉप दीपक हुड्डा को एशिया कप की टीम में चुना। श्रेयस अय्यर अगर एशिया कप में खेलते तो टीम इंडिया की कहानी ही कुछ और होती।