विधानसभा चुनावों के पहले चरण के मतदान शुरू होने में अब सिर्फ एक सप्ताह का समय बचा हुआ है. ऐसे में सभी राजनीतिक दल पांचों राज्यों के लिए अपना पूरा जोर लगा रही है. गोवा में 14 फरवरी को मतदान होना है, इस बीच गुरुवार को दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने गोवा चुनाव को लेकर कांग्रेस पार्टी पर निशाना साधा है. उन्होंने कहा कि गोवा में कांग्रेस को एक वोट देने का मतलब है कि भाजपा को अप्रत्यक्ष रूप से एक वोट देना.

 दिल्ली सीएम ने कहा कि गोवा में लड़ाई सिर्फ दो राजनीतिक पार्टियों आम आदमी पार्टी और भाजपा के बीच में है. उन्होंने जनता से कहा कि गोवा के लोगों के पास आप और भाजपा के रूप में दो ही विकल्प हैं और अगर भाजपा को बाहर देखना चाहते हैं तो आम आदमी पार्टी को वोट दें. उन्होंने कहा कि अगर इसके अतिरिक्त किसी दूसरे विकल्प को वोट दिया जाता है तो यह प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से भाजपा को ही वोट देना होगा. उन्होंने कहा कि कांग्रेसी जीतेगी तो वह भाजपा के पास जाएगा.

 

गौरतलब है कि 2017 गोवा विधानसभा चुनाव में कांग्रेस सबसे बड़ी राजनीतिक पार्टी बनकर उभरी थी. तब कांग्रेस ने 17 सीटों पर जीत दर्ज की थी लेकिन मौजूदा समय में पार्टी के पास सिर्फ दो विधायक ही मौजूद हैं. इसे लेकर आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अरविंद केजरीवाल ने कांग्रेस को वोट न देने की अपील जनता से की.

इससे पहले शुक्रवार को आम आदमी पार्टी ने एक प्रतिज्ञा पत्र जारी किया जिसमें 40 उम्मीदवारों से पार्टी के लिए वफादारी निभाने के तौर पर हस्ताक्षर करवाए गए. इस प्रतिज्ञा पत्र में उम्मीदारों की तरफ से वादा किया गया है कि जो निर्वाचित होता है तो वह एक स्वच्छ और भ्रष्टाचार मुक्त सरकार प्रदान करेगा. समाचार एजेंसी एएनआई के सूत्रों के अनुसार सीएम केजरीवाल ने कहा कि हमारे सभी उम्मीदवार ईमानदार हैं लेकिन सिर्फ मतदाताओं की संतुष्टि के लिए इस तरह के प्रतिज्ञा पत्र पर हस्ताक्षर कराए गए हैं.

 

अरविंद केजरीवाल ने कहा कि 2017 पहला साल था जब आम आदमी पार्टी ने गोवा में चुनाव लड़ा था. इस बार पार्टी ने संगठित और व्यवस्थित तरीके से चुनाव लड़ने की तैयारी की है और पूरी रणनीति के साथ लोगों के पास गए. उन्होंने कहा कि महामारी के दौरान पार्टी ने देश भर से चंदा इकट्ठा किया और इसके बाद गोवा गए.