नई दिल्ली के राजपथ पर होने वाले 70वीं गणतंत्र दिवस की परेड 2019 के लिए अरुणाचल प्रदेश की झांकी को भी शामिल किया जाएगा। अरुणाचल प्रदेश का विषय ‘शांति के भीतर’ को भी चुना गया है। देश के रक्षा मंत्रालय के निर्देशानुसार राज्य की झांकी को पुरस्कार विजेता कला विशेषज्ञ ध्रुबा भट्टाचार्य और उनकी टीम द्वारा डिजाइन किया गया। झांकी महात्मा गांधी से संबंधित है। 

भट्टाचार्य और उनकी टीम के सदस्य हैज हेबंग (प्रदर्शनी सहायक), रोटो टाडी (प्रदर्शनी कलाकार) और संगी त्सवांग (कलाकार) के साथ वेस्ट कामेंग जिले के कलाकार अंतिम तैयारियों के लिए शीघ्र ही नई दिल्ली के लिए रवाना होने वाले हैं। कुल मिलाकर 32 झांकी को पहले चयन के लिए मंजूरी दे दी गई है।इनमें से 14 झांकी का चयन विशेषज्ञ समिति द्वारा किया गया है। इसमें सिक्किम और अरुणाचल प्रदेश सहित कई राज्यों की झांकी को शामिल किया गया है।

अब तक अरुणाचल की झांकी को 13 बार चुना गया है। 2017 में अरुणाचल ने सभी राज्यों में पहला स्थान हासिल किया था। गत वर्ष का विषय मोनपाओं याक नृत्य था। सूचना और जनसंपर्क (आईपीआर) मंत्री बमांग फेलिक्स, आईपीआर सचिव सोनम चोंबाय, आईपीआर के विशेष सचिव हिमांशु गुप्ता और आईपीआर के निदेशक ओबांग तयांग ने विभाग के कला और प्रदर्शनी प्रकोष्ठ के सदस्यों को इसके लिए बधाई दी थी। साथ ही गणतंत्र दिवस के लिए अपनी शुभकामनाएं भी दी।