पूर्वोत्‍तर राज्‍य अरुणाचल प्रदेश को जल्‍द एक ग्रीनफील्‍ड एयरपोर्ट मिलने जा रहा है। इस ग्रीनफील्‍ड एयरपोर्ट का निर्माण राजधानी ईटानगर से 15 किमी दूर होलोंगी में किया जा रहा है। एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया की ओर से बनाये जा रहे इस एयरपोर्ट पर करीब 650 करोड़ रुपये खर्च होंगे। भारत-चीन सीमा तनाव के बीच सामरिक नजरिये से भी यह एयरपोर्ट काफी अहमियत रखता है।

एयरपोर्ट टर्मिनल बिल्डिंग के आसपास के स्थलों का भी सौंदर्यीकरण किया जाएगा। इससे आसपास के इलाकों में पर्यटन को भी बढ़ावा मिलेगा। इस ग्रीनफील्ड एयरपोर्ट को 4,100 वर्गमीटर एरिया में तैयार किया जा रहा है। एयरपोर्ट में फुटपाथ, एयर साइड का काम, टर्मिनल बिल्डिंग और शहरों की तरफ का काम किया जाएगा। पीक ऑवर में एयरपोर्ट की क्षमता 200 यात्रियों को हैंडल करने की होगी। इस ग्रीन फील्ड एयरपोर्ट के टर्मिनल बिल्डिंग में आठ चेक इन काउंटर होंगे। इसके अलावा यात्रियों को कई विश्वस्तरीय सुविधाएं भी उपलब्ध कराई जाएंगी।

टर्मिनल बिल्डिंग का डिजाइन इस तरह तैयार किया जाएगा ताकि ज्‍यादा से ज्‍यादा ऊर्जा संरक्षण हो सके यानि बिजली की खपत कम से कम होगी। इसके अलावा टर्मिनल बिल्डिंग में सस्टेनेबल लैंडस्‍केप के साथ-साथ रेन वॉटर हार्वेस्टिंग सिस्टम भी लगा होगा। यही नहीं एयरपोर्ट में एटीसी टॉवर कम टेक्निकल ब्लॉक, फायर स्टेशन, मेडिकल सेंटर और एविएशन से जुडे दूसरे कामों के लिए भी इंफ्रास्ट्रक्चर तैयार किया जाएगा। लोगों के लिए यह एयरपोर्ट नया अनुभव देगा। यहां आने वाली यात्री और दर्शक हिमालयी पहाड़ों का मनोरम दृश्य भी देख पाएंगे। पूर्वोत्‍तर भारत के इस खूबसूरत पहाड़ी राज्य में बन रहे ग्रीनफील्ड एयरपोर्ट का काम नवंबर 2022 तक पूरा होने का अनुमान है। एयरपोर्ट बनाने के लिए अब तक मिट्टी की जांच और फील्ड सर्वे का काम हो चुका है। वहीं, साइट क्लियरिंग का काम तेजी से चल रहा है यानि सब-स्ट्रक्चर का काम पूरा हो गया। सुपरस्ट्रक्चर फ्रेबिकेशन का काम प्रगति पर है।