देश के अन्य हिस्सों की तरह गुवाहाटी के खानापाड़ा स्थित खेल मैदान में प्रदेश का मुख्य गणतंत्र दिवस समारोह आयोजित किया गया। देश के 70वें गणतंत्र दिवस के मौके पर राज्यपाल प्रो. जगदीश मुखी ने राष्ट्रीय ध्वज फहराकर परेड की सलामी ली। इस अवसर पर राज्यपाल ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में देश विकास के नए शिखर को छू रहा है। पूर्वोत्तर नए भारत का इंजन बन गया है। केंद्र सरकार ने विकास के मद्देनजर आधारभूत ढांचे को मजबूत बनाने के लिए उल्लेखनीय काम किया है।


उन्होंने कहा कि हमारी सरकार राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) को तैयार करने के लिए पूरी तरह से प्रतिज्ञाबद्ध है। असम समझौते के आर्टिकल नंबर 06 को उन्होंने समझौते की आत्मा करार दिया। उन्होंने कहा कि आर्टिकल नंबर 06 निश्चित तौर पर क्रियान्वित होगा। उन्होंने जनजाति का दर्जा पाने के लिए आंदोलनरत 06 जनजातियों को आश्वासन दिया कि उन्हें निश्चित तौर पर सरकार जनजाति का दर्जा प्रदान करेगी।


राज्यपाल ने कहा कि राज्य सरकार पुलिस आधुनिकीकरण के लिए पूरी तरह से प्रतिबद्ध है। हमारी सरकार प्रशासन व्यवस्था के क्षेत्र में भ्रष्टाचार को मुक्त बनाने में सफल हुई है। एक्ट ईस्ट पॉलिसी को सार्थक रूप देने में राज्य सरकार जुटी हुई है। उड़ान योजना का जिक्र करते हुए राज्यपाल ने कहा कि इसके जरिए कई नए टर्मिनल का काम आरंभ हुआ है। जबकि, आने वाले दिनों में बांग्लादेश के चटगांव बंदरगाह को व्यवसायिक क्षेत्र के रूप में व्यवहृत करने के प्रबंध किए गए हैं।

उन्होंने कहा कि ग्रामीण कौशल योजना के जरिए प्रशिक्षण देने का काम किया जा रहा है, जिसमें 35,229 युवक-युवतियों को दक्षता विकास का प्रशिक्षण, अटल अमृत योजना के अधीन स्वास्थ्य सुरक्षा मुहैया कराई जा रही है। इसके जरिए 92 फीसदी जनता को स्वास्थ्य सुरक्षा प्रदान किया गया है। राज्य सरकार की प्रणाम योजना के जरिए राज्य के वरिष्ठ नागरिकों के भरण-पोषण की व्यवस्था को निश्चित बनाया गया है। सरकारी कर्मचारियों को अपने अभिभावकों का भरण-पोषण को अनिवार्य किया गया है। दिव्यांग चिकित्सा के लिए 12 हजार करोड़ रुपये की सहायता मुहैया कराई गई है।


उन्होंने बताया कि गुवाहाटी को खेल की राजधानी बनाने के लिए मुख्यमंत्री ने संकल्प लिया है, जबकि ग्रामीण इलाकों में 1,16,091 घरों का राज्य सरकार ने निर्माण किया है। चाय बागानों के श्रमिकों के प्रति भी राज्य सरकार ने अपनी विशेष रूचि दिखाई है। 7,21,585 चाय बागान के श्रमिकों के प्रत्येक के खाते में 2,500 रुपये सरकार ने जमा कराएं हैं। इस मौके पर उन्होंने सरकार की अन्य कई कल्याणकारी योजनाओं का जिक्र करते हुए विस्तार से प्रकाश डाला।


गणतंत्र दिवस की परेड के पश्चात विभिन्न स्कूलों के बच्चों द्वारा आकर्षक रंगारंग कार्यक्रम प्रस्तुत किए गए, जिसे देखने के लिए भारी संख्या में लोग मौजूद रहे। राज्य में उग्रवादी गतिविधियों और गणतंत्र दिवस का उग्रवादी संगठनों द्वारा बहिष्कार किए जाने की धमकी के मद्देनजर राज्य भर में सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए थे। राज्य में कहीं से भी किसी अप्रिय घटना के समाचार नहीं हैं।