बड़े अरमानों से मां बाप ने भेजा था देश की सेवा करने लेकिन दो महीनों में ही छीन गयी जिंदगी। ये दुखद खबर है पानीपत के गांव गोयला खुर्द की जहां एक फौजी जवान अरुणाचल प्रदेश में नक्सली हमले में शहीद हो गया।

इस जवान ने ट्रेनिंग पूरी करके दो महीने पहले ही ड्यूटी ज्वाइन की थी हंसी खुशी देश की सेवा का अरमान लेकर निकले शहीद सचिन को क्या पता था सिर्फ दो ही महीनों में उसका ये सफर आधुरा रह जाएगा, चार भाई-बहनों में सबसे बड़े सचिन शर्मा की शहादत की खबर के बाद गांव में मातम का माहौल है, वहीं अभी तक घर की महिलाओं को इसकी जानकारी नहीं दी गई है। बताया जा रहा है कि बुधवार को शहीद का पार्थिव शरीर उसके पैतृक गांव लाया जाएगा।


शहीद सचिन शर्मा के पिता सुरेंद्र कुमार कौशिक ने बताया कि उनके पास मंगलवार को अरुणाचल प्र‎देश से टेलीफोन पर आर्मी ने बेटे की शहादत की खबर दी है। उन्होंने बताया कि 20 वर्षीय सचिन अरुणाचल प्र‎देश में शनिवार को नक्सली हमले में गंभीर रूप से घायल हुआ था। उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां मंगलवार सुबह सचिन ने आखिरी सांस ली।


सचिन 12वीं तक पढ़ाई करके एक साल पहले रोहतक में आर्मी राजपूत रेजिमेंट 16 बटालियन में भर्ती होने के ट्रेनिंग पूरी करके 2 महीने छुट्टी पर आकर घर रहा और अब 2 महीने पहले ही उसने ड्यूटी ज्वाइन की थी। शहादत की सूचना के बाद जहां परिजनों के पैरों तले की जमीन खिसक गई, वहीं पूरे गोयला खुर्द गांव में मातम का माहौल बन गया। इस सूचना के बाद ग्रामीणों का शहीद के घर जमवाड़ा लगा हुआ है।