भारतीय सेना के जवान नाइक वेलू पी ने शुक्रवार को अपनी 4,300 किलोमीटर लंबी दूरी की दौड़ शुरू की। वेलू का लक्ष्य 50 दिन के अंदर इस दूरी को तय कर ‘गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड’ में अपना नाम दर्ज कराने का है। साथ ही इस दौड़ के जरिये उनका मकसद 'क्लीन इंडिया-ग्रीन इंडिया' के संदेश का प्रचार करना और 'फिट इंडिया' मिशन के लिए युवाओं को प्रेरित करना है।

कश्मीर से कन्याकुमारी तक की यात्रा दौड़कर पूरी करने के लिए निकल चुके वेलू का जम्मू में 166, मिलिट्री अस्पताल के कमांडेंट ब्रिगेडियर केजे सिंह और सेना के अन्य अधिकारियों ने स्वागत किया। ब्रिगेडियर सिंह ने नायक वेलू को उधमपुर से सांबा के लिए रवाना किया।

उधमपुर में सेना के जनसंपर्क अधिकारी (पीआरओ) लेफ्टिनेंट कर्नल अभिनव नवनीत ने बताया, ‘‘वेलू कश्मीर से कन्याकुमारी के बीच 4,300 किलोमीटर की दूरी सिर्फ 50 दिन में पूरा करके गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाने का प्रयास कर रहे हैं।’’ लेफ्टिनेंट कर्नल अभिनव नवनीत ने बताया कि वेलू ने शुक्रवार को श्रीनगर के 92 बेस अस्पताल से अपनी ये दौड़ शुरू की। यहां शुरुआती पांच किलोमीटर तक उनका जोश बढ़ाने के लिए लोगों ने हाथ में तिरंगा लेकर उनके साथ दौड़ लगाई। उन्होंने कहा, ‘‘कश्मीर से कन्याकुमारी तक इस बड़ी दूरी को सिर्फ 50 दिनों में तय करने के लिए वेलू रोजाना 70-100 किलोमीटर तक दौड़ेंगे और कई बड़े राज्यों, शहरों और कस्बों से होकर गुजरेंगे।’’

वेलू अब तक कई मैराथन दौड़ में हिस्सा ले चुके हैं। पिछले साल भी उन्होंने 1,600 किलोमीटर की दूरी सिर्फ 17 दिन में तय की थी। इस मुकाम को हासिल करने वाले वो पहले भारतीय अल्ट्रा-रनर (पारंपरिक मैराथन से ज्यादा किलोमीटर की दूरी दौड़ने वाले) बने थे। वेलू की यह उपलब्धि एशियाई रिकॉर्ड में शामिल होने की प्रक्रिया में है। कर्नल अभिनव नवनीत के अनुसार, "वेलू के नाम पर पहले ही कई अल्‍ट्रा मैराथन में भागने का रिकॉर्ड दर्ज है। इसके अलावा वो देशभर में आयोजित लंबी की कई दौड़ों में हिस्‍सा ले चुके हैं।"