भारतीय सेना (indian army) ने 'माछल मेला' (Machal mela) समारोह के मौके पर सीमावर्ती कश्मीर में कुपवाड़ा जिले में माछल क्षेत्र के नौ गांव को जोडऩे वाली 150 फीट लंबे पुल ग्रामीणों को समर्पित किया। दो महीने तक चले इस मेले का रविवार को समापन हो गया। 

रक्षा जनसंपर्क अधिकारी कर्नल इमरोन मुवी ने कहा इस 150 फीट लंबे पुल का निर्माण जनरल रिजर्व इंजीनियर फोर्स (GREF) द्वारा किया गया है। यह पुल माछल से कुपवाड़ा तक नौ गांवों को जोड़ता है। इस पुल का नाम शहीद कैप्टन आशुतोष (Martyr Captain Ashutosh) के नाम पर रखा गया है। वह 08 नवंबर 2020 को आतंकवाद विरोध अभियान में देश के लिये सर्वोच्च बलिदान देकर शहीद हो गये थे। उन्हें 15 अगस्त 2021 को मरणोपरांत शौर्य चक्र से सम्मानित किया गया था। 

उन्होंने कहा कि माछल मेले का अन्य मुख्य आकर्षण 140 फीट ऊंचे राष्ट्रीय ध्वज का फहराना था। जो 56 फीट लंबाई और 37 फीट चौड़ाई के साथ देश में सबसे बड़ा है। इस दौरान एक स्मृति स्थल 56 आरआर (मराठा एलआई) के शहीद उन 32 बहादुर जवानों को समर्पित किया गया जिन्होंने देश के लिये सर्वोच्च बलिदान दिया है।