चराईदेव जिले में पिछले कुछ दिनों से अल्फा (स्वाधीन) की गतिविधियां अचानक बढ़ गई हैं। असम अरुणाचल प्रदेश के सीमावर्ती कानूबाड़ी में अल्फा के एक चार सदस्यीय दल के असम में घुसने के बाद सेना के साथ मुठभेड़ में एक सदस्य पकड़ा गया, जबकि तीन फरार होने में सफल रहे। 

पकड़े गए अल्फा कैडर निर्मल के पास से एमक्यू-71 राइफल, मैग्जीन और कारतूस मिला है। उधर, अल्फा (स्वाधीन) के एक नेता स्थानीय पत्रकार को फोन कर बताया कि जिला के पेहीपुखरी अंचल में बिजली के हाईटेंसन टावर के पास तीन बम लगाए गए हैं। आप पुलिस के साथ जनता को सतर्क कर दें, ताकि विस्फोट होने की स्थिति में जानमाल का नुकसान न हो। पत्रकार की सूचना पर सेना, पुलिस और सीआरपीएफ ने गिरफ्तार कैडर की निशानदेही का पता लगाते के लिए लोंगपटिया, पेहीपुखरी, हाथीपुखरी आदि अंचलों में अभियान चलाया, लेकिन बम नहीं मिले। हालांकि बाद में चांगमाई मेसलीपथार गांव में बिजली के टावरों में अलग-अलग दो शक्तिशाली आईडी बम बरामद किए गए, जिन्हें निष्क्रीय कर दिया गया। 

वहीं गिरफ्तार अल्फाई निर्मल को रिमांड पर लिए जाने के बाद एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि उसने स्वीकार किया है कि 33,000 किलोवाट के निपको बिजली टावर लाइन में बमों को गत 21 अप्रैल को फिट गया गया था। इसमें से एक बम उसी दिन फट गया। हालांकि जंगली इलाका होने के कारण इसकी जानकारी किसी को नहीं मिली। वहीं विस्फोट से टावर को कोई नुकसान नहीं पहुंचा। वहीं सुरक्षा बलों ने तिनसुकिया जिले के बरडुमसा थाना अंतर्गत कुजुपथार से तीन हैंड ग्रेनेड बरामद किए हैं। जानकारी के अनुसार ये गे्रनेड कोलिया बोरा के मकान के पास से बरामद किए गए, जहां अल्फाइयों ने शरण ली थी। इस घटना के बाद आसपास के इलाके को खाली करा लिया गया है। मालूम हो कि दो दिन पहले अल्फाइयों के साथ हुई मुठभेड़ में बरडुमसा थाना के प्रभारी भास्कर कलिता की मौत हो गई थी।