राज्य सरकार ने राकेश पाल एंड कंपनी को रिश्वत देकर नौकरी पाने वाले 13 एसीएस व एपीएस अधिकारियों को नौकरी से बर्खास्त कर दिया है । राज्य ससरकार के पर्सनल विभाग ने बताया कि पूर्व मंत्री नीलमणि सेन डेका के पुत्र राजर्षि सेन डेका, निशामणि डेका, रूमी सैकिया, अनिरुद्ध राय, पल्लवी सैकिया, देवजीत बोरा, मिथुन बरगियारी, दीपक खणिकर, गीताली दले, कुणाल दास, हिमांशु चौधरी, कमलदेव नाथ व बदरूल इस्लाम चौधरी को राज्य सरकार ने बर्खास्त कर दिया है । ये सभी अधिकारी जेल में बंद है । उल्लेखनीय है कि फर्जीवाड़े के तरीके से नौकरी हथियाने वाले 36 अधिकारियों को डिब्रूगढ़  पुलिस ने गिरफ्तार किया था । 

एपीएससी भर्ती घोटाला: 27 परीक्षा निरीक्षकों के हस्ताक्षर की होगी जांच

आपको बता दें कि इस सिलसिले में जांच अधिकारी ने बताया कि एपीएससी घोटाले में गिरफ्तार हुए राकेश पाल के समय हुए नियुक्ति घोटाले की तफ्तीश में पाया गया था कि जिन संदेहास्पद प्रार्थियों की उत्तर पुस्तिका में हस्ताक्षर किए गए हैं, उनमें से कई कथित तौर पर फर्जी हैं। 

असमः एपीएससी की कार्रवाई में बड़ी संख्या में उत्तर पुस्तिकाएं जब्त

उत्तर पुस्तिका में मौजूद जिन परीक्षा निरीक्षकों के हस्ताक्षर फर्जी तरीके से किए गए उसी सिलसिले में संबंधित परीक्षा निरीक्षकों के दस्तखत के साथ मिलान करने के लिए बुलाया गया था। साथ ही अगर परीक्षा निरीक्षकों के हस्ताक्षर उत्तर पुस्तिका में फर्जी पाए जाते हैं तो संबंधित परीक्षा निरीक्षक को सरकारी गवाह बनाया जाएगा।