कश्मीर में हिंदू- अल्पसंख्यकों की आए दिन हत्या के मामलों पर शनिवार को उच्चतम न्यायालय (Supreme Court) से 'स्वत: संज्ञान' लेने की अपील की गयी। मुख्य न्यायाधीश एन वी रमन (Chief Justice NV Raman) को लिखे एक पत्र में दिल्ली के वकील विनीत जिंदल ने कहा है कि कश्मीर में आए दिन निर्दोष हिंदू- सिख अल्पसंख्यकों को आतंकवादियों द्वारा निशाना बनाया जा रहा है तथा उनकी हत्या की जा रही है। 

इस वजह से दोनों समुदायों के लोग असुरक्षा एवं डर के साए में जीने को मजबूर हैं और वे सुरक्षा की लचर व्यवस्था को लेकर बेहद गुस्से हैं। जिंदल ने अपनी पत्र जनहित याचिका में कश्मीर में एक स्कूल के प्रधानाचार्य, एक शिक्षक और एक फार्मासिस्ट की हत्या की घटना का जिक्र किया है। 

पत्र में पिछले दिनों पांच हिंदू सिख नागरिकों की हत्या के साथ-साथ 2000 में अनंतनाग जिले में 36 निर्दोष लोगों की हत्या का मुद्दा भी उठाया गया है।