महाराष्ट्र के सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे (Anna Hazare) एकबार फिर से खेल कर सकते हैं। इसको लेकर उन्होंने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को एक ‘स्मरण पत्र’ लिखा है। इसमें हजारे ने कहा है कि वो सुपरमार्केट और सड़क किनारे की दुकानों में शराब बेचने संबंधी राज्य सरकार के फैसले के खिलाफ अनिश्चितकालीन अनशन कर रहे हैं।

अन्ना ने कहा कि उन्होंने सीएम को पहला पत्र लिखकर 3 फरवरी को आबकारी नीति का विरोध किया था, लेकिन इसका कोई जवाब नहीं मिला। हजारे ने कहा कि इसके बाद मुख्यमंत्री को याद दिलाने के लिए उन्हें स्मरण पत्र भेजना पड़ा।

महाराष्ट्र सरकार ने हाल में सुपरमार्केट और किराने की दुकानों में भी शराब बेचने की अनुमति देने का फैसला किया था। लेकिन हजारे ने ऐलान किया था कि इस फैसले के खिलाफ उन्होंने अनिश्चितकालीन अनशन करने का फैसला किया है। इस संदर्भ में उन्होंने मुख्यमंत्री, उपमुख्यमंत्री (अजित पवार) को पत्र भेजा था, लेकिन कोई जवाब नहीं मिला।