महाराष्ट्र के नासिक में दिल दहला देने वाली घटना सामने आई है। यहां एक महिला ने कथित तौर पर अपने साढ़े तीन साल के बच्चे की हत्या करने के बाद आत्महत्या कर ली। इसकी पीछे की वजह जानकर आपको और ज्यादा हैरानी होगी। 32 वर्षीय महिला ने यह कदम इसलिए उठाया, क्योंकि वह ऑनलाइन स्टडी नहीं कर रहा था। 

पुलिस के मुताबिक, पाथर्डी फाटा इलाके की रहने वाली महिला ने सोमवार रात करीब साढ़े नौ बजे घर में फांसी लगा ली। इससे पहले उसने कथित तौर पर अपने बेटे की गला घोंटकर हत्या कर दी थी, क्योंकि वह ऑनलाइन स्टडी नहीं कर रहा था। इस वजह से महिला बेहद नाराज थी। जब दोनों घटनाएं हुईं उस वक्त महिला के माता-पिता घर में मौजूद थे। 

पुलिस ने कहा कि उन्हें मां-बेटे के शवों के पास एक सुसाइड नोट भी मिला है। इसमें कहा गया है कि उनकी मौत के लिए किसी को जिम्मेदार नहीं ठहराया जाना चाहिए। 

दूसरी ओर, पढ़ाई के लिए डांटे जाने से नाराज एक 15 वर्षीय किशोरी ने कराटे की बेल्ट से मां की कथित तौर पर गला घोंट कर हत्या कर दी। किशोरी ने इसे दुर्घटनावश मौत का मामला बताने की कोशिश की। यह घटना 30 जुलाई को नवी मुंबई के ऐरोली इलाके में हुई। लेकिन पुलिस ने मंगलवार को यह जानकारी दी।

रवाले पुलिस थाने के अधिकारी ने बताया कि किशोरी के माता-पिता उसे डॉक्टर बनाना चाहते थे, इसलिए नीट परीक्षा की तैयारी के लिए कोचिंग क्लासेस में एडमिशन करा दिया था। लड़की मेडिकल की पढ़ाई नहीं करना चाहती थी, इसलिए उसकी मां के साथ अकसर कहासुनी होती थी।

अधिकारी ने बताया कि 27 जुलाई को पिता ने लड़की को मोबाइल फोन पर गेम खेलने के लिए डांटा था जिससे नाराज होकर वह पास में ही रहने वाले एक रिश्तेदार के घर चली गई थी। जब किशोरी की मां उसे वहां बुलाने गई तो लड़की ने कहा कि पढ़ाई के लिए उसे परेशान किया जा रहा है। वह अभिभावकों के खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज करा देगी। 

अधिकारी के मुताबिक, 30 जुलाई को महिला ने एक बार फिर पढ़ाई के लिए बेटी को डांटा और इस दौरान महिला ने कथित तौर पर चाकू दिखाकर लड़की को धमकी दी। उन्होंने कहा कि चाकू देखकर डरी लड़की ने महिला को धक्का दिया, जिससे उसका सिर एक फर्नीचर के कोने से जा टकराया।

 

इसके बाद महिला ने बेहोशी की हालत में पास पड़ी कराटे बेल्ट को पकड़ने की कोशिश की, लेकिन लड़की ने बेल्ट को पकड़ लिया और उससे मां की कथित तौर पर गला घोंटकर हत्या कर दी। पुलिस ने संदेह के आधार पर लड़की से पूछताछ की तो उसने गुनाह कबूल कर लिया। पुलिस ने किशोरी के खिलाफ भादंसं की धारा 302 के तहत मामला दर्ज कर उसे हिरासत में ले लिया है।