केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह तीन दिनों के लिए पश्चिम बंगाल का दौरा करेंगे। शाह 4 मई की रात को कोलकाता पहुंचेंगे। पांच मई को वह सबसे पहले उत्तर 24 परगना जिले के हिंगलगंज जाएंगे और सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के एक कार्यक्रम में शामिल होंगे। वहां से वह उत्तर बंगाल के दार्जिलिंग जिले के सिलीगुड़ी जाएंगे और रेलवे इंस्टीट्यूट ग्राउंड में एक जनसभा को संबोधित करेंगे। 5 मई को दार्जिलिंग में स्थित विभिन्न राजनीतिक और गैर- राजनीतिक संगठनों के प्रतिनिधियों के साथ गृह मंत्री की बैठक होने की भी संभावना है।

ये भी पढ़ेंः 42 साल तक अपनी सेवाएं देने के बाद भारतीय सेना प्रमुख जनरल मनोज मुकुंद नरवणे हुए रिटायर्ड


6 मई को वह उत्तर बंगाल के निकटवर्ती कूचबिहार जिले में जाएंगे और तिनबीघा में एक सरकारी कार्यक्रम में शामिल होंगे। वह 6 मई की दोपहर को कोलकाता लौटेंगे और उम्मीद है कि वह राज्य के शीर्ष भाजपा नेताओं के साथ बैठक करेंगे और फिर उसी दिन वापस दिल्ली के लिए उड़ान भरेंगे। 2021 के पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनावों में पार्टी की हार के बाद शाह का राज्य का यह पहला दौरा होगा। तब से, उपचुनावों और नगर निगम चुनावों में पार्टी का प्रदर्शन दयनीय रहा है।

ये भी पढ़ेंः यूपी के इस शहर में योगी सरकार का बड़ा एक्शन, 939 धार्मिक स्थलों से उतरवाये गये लाउड स्पीकर


पार्टी आसनसोल लोकसभा सीट के लिए उपचुनाव भी हार गई, जिसे उन्होंने 2019 में लगभग दो लाख मतों के अंतर से जीता था। कई मामलों में, वाम मोर्चा के उम्मीदवारों ने वोट शेयर प्रतिशत में दूसरा स्थान हासिल किया और भाजपा तीसरे स्थान पर रही। पश्चिम बंगाल में भाजपा की राज्य समिति के एक सदस्य ने नाम ना बताने की शर्त पर आईएएनएस को बताया, आने वाले 2024 के लोकसभा चुनावों में 2019 में जीती गई सभी 18 लोकसभा सीटों को बरकरार रखना महत्वपूर्ण है। लेकिन वर्तमान स्थिति बहुत गंभीर है और हमें उम्मीद है कि गृह मंत्री हमें एक निश्चित संदेश देंगे। राज्य में हमारे संगठनात्मक ढांचे और कामकाज को कैसे बेहतर बनाया जाए। भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और पार्टी सांसद दिलीप घोष ने कहा कि हालांकि शाह के दौरे का मुख्य उद्देश्य आधिकारिक कार्यक्रमों में शामिल होना है, लेकिन वह राज्य के पार्टी नेताओं के साथ बैठक भी करेंगे।