न्यूयॉर्क। अमेरिका के एक प्रतिष्ठित विश्वविद्यालय ने सिख छात्रों की आस्था को देखते हुए बड़ा फैसला लिया है। विश्वविद्यालय प्रशासन ने घोषणा की है कि वह सिख छात्रों को परिसर में कृपाण धारण करने की अनुमति देगा। गौरतलब है कि सिख धर्म में कृपाण एक धार्मिक वस्तु है। सिखों के लिए कृपाण रखना आस्था का विषय है। विश्वविद्यालय प्रशासन ने यह कदम करीब दो महीने पहले कृपाण रखने की वजह से चार्लोट में यूनिवर्सिटी ऑफ नॉर्थ कैरोलाइना के एक छात्र को हथकड़ी लगाए जाने की घटना का वीडियो वायरल होने के बाद उठाया है।

फीफा विश्व कप 2022: 32 टीमें, एक कप, दोहा में शुरू होगा फुटबॉल का महाकुंभ

यूनिवर्सिटी ऑफ नॉर्थ कैरोलाइना ने बृहस्पतिवार को एक बयान में कहा कि छात्रों को परिसर में कृपाण धारण करने की अनुमति दी जाएगी, बशर्ते कृपाण के ब्लेड की लंबाई तीन इंच से ज्यादा न हो और ‘‘इसे हर वक्त कपड़ों के अंदर शरीर से चिपकाकर रखा जाए।’’ बयान में कहा गया है,‘‘विविधता तथा समावेशन कार्यालय ने इंस्टिट्यूशनल इंटीग्रिटी के सहयोग से हमारे पुलिस विभाग में इस सप्ताह अतिरिक्त जागरूकता प्रशिक्षण भी दिया और परिसर में सभी को सांस्कृतिक शिक्षा तथा प्रशिक्षण के अवसर देने के लिए काम किया जाता रहेगा।’’

हिमंता बिस्वा सरमा ने कहाः मोदी को जिताओ, वर्ना हर शहर में आफताब होगा

विश्वविद्यालय ने इस कदम में मदद देने के लिए गैर लाभकारी संगठन ‘द सिख कोलिशन’ और ‘ग्लोबल सिख काउंसिल’ समेत सिख नेताओं का आभार व्यक्त किया। विश्वविद्यालय प्रशासन के इस फैसले के बाद सिख छात्र भी खुश हैं। अब वो परिसर के अंदर भी अपने साथ कृपाण रख सकते हैं। बशर्ते कृपाण रखने को लेकर विश्वविद्यालय प्रशासन द्वारा जारी गाइडलाइंस को उन्हें पालन करना होगा।