कैप्टान अमरिंदर सिंह के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफे के बाद पंजाब में सियासी सीएम की दौड़ बहुत ही तेज हो रही है। कांग्रेस के अब किस चेहरे को पंजाब मुख्यमंत्री कुर्सी पर बैठाएगी इस पर मंथन कर रही है। कयास लगाए जा रहे हैं कि अगले साल 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस पार्टी अंबिका सोनी पर दांव खेल सकती है।  

जानकारी के लिए बता दें कि सोनी एक अनुभवी कांग्रेस नेता हैं। उन्हें गांधी परिवार का करीबी माना जाता है। इंदिरा गांधी ने उन्हें 1969 पार्टी में लाया था। अंबिका सोनी के पिता विभाजन के दौरान अमृतसर के जिला कलेक्टर थे और नेहरू के साथ मिलकर काम करते थे। अंबिका सोनी ने संजय गांधी के साथ भी काम किया और पार्टी के कई मोर्चों का नेतृत्व किया है। अंबिका सोनी पंजाब से राज्यसभा सदस्य रह चुकी हैं।

खबर मिल रही है कि कांग्रेस आलाकमान मुख्यमंत्री पद के लिए अंबिका सोनी के नाम पर विचार कर रही है। इसका प्रमुख वजह यह है कि वह पंजाब कांग्रेस प्रमुख के रूप में नवजोत सिंह सिद्धू के साथ नए और पुराने के नेतृत्व मिश्रण को संतुलित कर सकती हैं। उनके कद को देखते हुए, मुख्यमंत्री के रूप में उनके नाम पर कम विरोध की संभावना है।
अमरिंदर सिंह ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को सूचित किया कि अगर कांग्रेस उन्हें दरकिनार करती रही तो उन्हें मुख्यमंत्री बने रहने में कोई दिलचस्पी नहीं है। अमरिंदर सिंह ने शनिवार को संवाददाताओं से कहा, "पिछले दो महीनों में कांग्रेस नेतृत्व द्वारा मुझे तीन बार अपमानित किया गया था। पहले विधायकों को दो बार दिल्ली बुलाया गया था और अब उन्होंने आज यहां चंडीगढ़ में कांग्रेस विधायक दल (सीएलपी) की बैठक बुलाई।" अगर मेरी क्षमता पर कोई संदेह है, तो मैं अपमानित महसूस करता हूं।"