दुनिया के दो सबसे बड़े रईस- एलन मस्क और जेफ बेजोस मुकेश अंबानी (mukesh ambani) की टेंशन बढ़ाते जा रहे है। एलन मस्क, अपनी ब्रॉडबैंड सर्विस प्रोवाइड कराने वाली कंपनी स्टारलिंक के जरिए परेशानी खड़ी करने वाले हैं तो जेफ बेजोस की ई-कॉमर्स कंपनी अमेजन ने फ्यूचर ग्रुप से कानूनी जंग कर मुकेश अंबानी के कारोबारी विस्तार को झटका दिया है।

एलन मस्क की कंपनी स्टारलिंक भारत में इंटरनेट सर्विस शुरू कर रही है। स्टारलिंक की पैरेंट कंपनी SpaceX है जिसके मुखिया एलन मस्क हैं। यह सैटेलाइट ब्रॉडबैंड इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर कंपनी है। स्टारलिंक भारत के ग्रामीण इलाकों में सस्ती इंटरनेट सर्विस प्रोवाइड कराने की योजना है। अगर ऐसा होता है तो मुकेश अंबानी की रिलायंस जियो को कड़ी चुनौती मिलेगी।

स्टारलिंक (starlink) के आने से जियो की दिक्कतें बढ़ सकती हैं। हालांकि, ऐसी भी खबरें हैं कि स्टारलिंक भारत में टेलीकॉम कंपनियों से साझेदारी का विकल्प ढूंढ रही है। अब तक ये स्पष्ट नहीं हो सका है कि कौन सी कंपनी साझेदार बन सकती है।

जेफ बेजोस की ई-कॉमर्स कंपनी अमेजन (amazon) और किशोर बियानी के फ्यूचर ग्रुप के बीच कानूनी जंग चल रही है। इस वजह से मुकेश अंबानी के रिटेल कारोबार को झटका लगा है। दरअसल, फ्यूचर ग्रुप के कारोबार के अधिग्रहण के लिए रिलायंस रिटेल ने 24 हजार करोड़ से ज्यादा की डील की है। इस डील पर अमेजन को आपत्ति है। अमेजन ने भारत की अलग-अलग अदालतों में इसके खिलाफ केस दायर किया है। इस वजह से रिलायंस और फ्यूचर की डील अटकी हुई है। अगर ये डील पूरी हो जाती है तो रिटेल कारोबार में रिलायंस का वर्चस्व बढ़ जाएगा।