अमरनाथ यात्रा खराब मौसम के कारण एक दिन के लिए अस्थायी रूप से स्थगित रहने के बाद पहलगाम और बालटाल दोनों मार्गों से शुक्रवार को फिर से शुरू कर दी गयी। अधिकारिक जानकारी के अनुसार आसमान में छाये बादलों, लेकिन शुष्क मौसम के बीच यात्रियों के नए जत्थे को पारंपरिक नुनवान पहलगाम आधार शिविर और सबसे छोटे बालटाल से दुमैल होते हुए आगे बढ़ने की अनुमति दी गई। 

ये भी पढ़ेंः बच्चों के सामने अश्लील हरकत करने वाले मलयालम एक्टर को मिली जमानत, लेकिन कोर्ट ने दी ऐसी चेतावनी


यात्रा सबसे छोटे मार्ग बालटाल की ओर से देर से शुरू हुई और 946 महिलाओं, 88 साधुओं और 14 बच्चों सहित 3 हजार 673 तीर्थयात्री अमरनाथ के गुफा मंदिर की यात्रा करने के लिए डोमेल से आगे बढ़े । शुक्रवार सुबह 11 बजे तक 395 तीर्थयात्रियों को भी बालटाल आधार शिविर से अमरनाथ गुफा मंदिर में दर्शन करने के लिए हेलीकॉप्टर द्वारा ले जाया गया। यात्रियों के नए जत्थों को भी पहलगाम में पारंपरिक नुनवान आधार शिविर से और दक्षिण कश्मीर में चंदनवाड़ी और पंजतरणी के पड़ाव बिंदुओं पर जाने की अनुमति दी गई थी, जो कल खराब मौसम के कारण स्थगित कर दिया गया था। 

ये भी पढ़ेंः लखनऊ के LuLu Mall में नमाज पर मचा हंगामा, सुंदरकांड के ऐलान के बाद हुआ ये काम


अधिकारियों ने बताया कि आज तड़के तक 1 लाख 54 हजार से अधिक तीर्थयात्रियों ने अमरनाथ के पवित्र गुफा मंदिर में मत्था टेका। कश्मीर के पहलगाव की एक स्वतंत्र मौसम वेधशाला के अनुसार पहलगाम से पवित्र गुफा तक , चंदनवारी, जोजिबल, एमजी टॉप, शेषनाग, पोशपत्री, पंचतरणी, संगम और पवित्र गुफा में शाम तक आमतौर पर बादल छाए रहने की संभावना है। इसी तरह, बालटाल से दुमैल, बरारीमार्ग और संगम होकर पवित्र गुफा तक पहुंचने वाले पूरे मार्ग पर शाम तक आमतौर पर बादल छाए रहने के साथ बारिश की संभावना है। इस बीच हरियाणा के करनाल के निवासी महावीर प्रसाद (66) तीर्थयात्री की शुक्रवार को हृदय गति रुकने से मृत्यु हो गई। वह पहलगाम आधार शिविर से पवित्र गुफा मंदिर जा रहे थे।