पूर्वोत्तर सीमा रेलवे तमाम कठिनाइयों के बावजूद रेल यात्रियों की सुविधा के लिए रेल सेवा को बेहतर बनाने का प्रयास कर रहा है। दूसरी ओर ट्रेन सेवा को लेकर अटकलबाजियां तेज हो गई हैं। 

इस संबंध में पूसी रेलवे के अधिकारियों का कहना है कि पिछले दिनों बंगाल और बिहार में आई बाढ़ के चलते कई पुलों तथा रेल लाइनों को भारी नुकसान पहुंचा। इन क्षतिग्रस्त पुलों तथा रेल लाइनों की मरम्मत का काम युद्धस्तर पर चल रहा है। यही कारण है कि गत 16 सितंबर से कुल पचास टे्रनों की आवाजाही शुर कर दी गई है। इनमें से 36 दूरगामी टे्रनों की सेवा बहाल कर दी गई है। 

हालांकि 45 टे्रनों के रद्द किए जाने की खबर से लोगों में भ्रम पैदा हो गया है जो कि गलत है। इधर पूसी रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी प्रणव ज्योति शर्मा ने कहा कि अगस्त के पहले सप्ताह में बिहार तथा पश्चिम बंगाल में आई भीषण बाढ़ के चलते कोलकाता, दिल्ली तथा दक्षिण भारत की ओर जाने वाली 80 मेल एक्सप्रेस ट्रेनों को उस दौरान रद्द किया गया था, लेकिन पुलों और रेल लाइनों की मरम्मत के बाद चरणबद्ध तरीके से रेल सेवा को फिर बाहल किए जाने की कोशिश की गई है, जो अभी जारी है। वहीं निकट भविष्य में शेष ट्रेनों की सेवा भी प्रारंभ कर दी जाएगी।