कवर्धा. छत्तीसगढ़ के कवर्धा में एक दिन के लिए स्कूल, इंटरनेट (internet will remain closed for a day) सहित सभी प्रतिष्ठान बंद रहेंगे। रविवार दोपहर हुए हंगामे के बाद कलेक्टर रमेश कुमार शर्मा ने शहर में धारा 144 लागू (Section 144) कर दी है। पूरा इलाका छावनी में तब्दील हो गया है। लोगों से घरों से बाहर न निकलने की अपील की गई है। परिस्थितियों के मद्देनजर प्रशासन धारा 144 को आने वाले दिनों में भी बढ़ा सकता है। 

दरअसल, मामला वार्ड नंबर 27 के लोहारा नाका चौक (Lohara Naka Chowk) का है।  यहां झंडा लगाने को लेकर विवाद शुरू हुआ। रविवार दोपहर कुछ युवकों ने झंडा चौराहे पर लगा दिया था। इसे लेकर कुछ लोगों ने आपत्ति जताई और दो गुट आपस में भिड़ गए।  

युवक बड़ी संख्या में सड़कों पर लाठी-डंडे लेकर उतर आए। एक-दूसरे को जमकर पीटा। इसके अलावा युवकों ने एक-दूसरे पर पत्थर भी बरसाए। इस बीच एक युवक भीड़ से घिर गया। उसका नाम दुर्गेश बताया जा रहा है। उसे लोगों ने पुलिस के सामने ही मारा। आसपास मौजूद भीड़ ने इस घटना को मोबाइल में कैद कर लिया। 

गौरतलब है कि कवर्धा (Kawardha) से राजनांदगांव को जोड़ने वाली सड़क पर सिग्नल चौक, लोहारा नाका चौक इलाके में पूरा दिन अफरा-तफरी मची रही।  थाने के बाहर युवकों  जमकर हंगामा किया। मारपीट में 8 लोग घायल हो गए।  इनका इलाज कवर्धा के अस्पताल में कराया जा रहा है।

सूचना मिलते ही पुलिस बल के 500 जवान वार्ड नंबर 27 में तैनात कर दिए गए। इस बीच किसी ने आरोप लगाया कि पुलिस जानबूझकर इस मामले में कार्रवाई नहीं कर रही है। इतनी बड़ी घटना होने के बाद भी पुलिस ने किसी के खिलाफ अब तक FIR दर्ज नहीं की। 

मारपीट में 8 लोग घायल हो गए. इनका इलाज कवर्धा के अस्पताल में कराया जा रहा है। सूचना मिलते ही पुलिस बल के 500 जवान वार्ड नंबर 27 में तैनात कर दिए गए। कलेक्टर रमेश कुमार शर्मा ने मीडिया से कहा कि इस मामले के दोषियों पर सख्त कार्रवाई की जाएगी। 

एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि पिछली बार भी दो गुटों में झगड़ा हुआ था। उस मामले पर दोनों पक्षों ने समझौता भी कर लिया था। हम मामले की जांच कर रहे हैं। पुलिस ने किसी पर बल प्रयोग नहीं किया है।