अरुणाचल प्रदेश के पापुमपारे जिले के लैपताप गाँव में भूस्खलन की वजह से मिट्टी में जिंदा दब गए 14 लोगों के शव बरामद कर उनका अंतिम संस्कार कर दिया गया है। जिले के स्थानीय विधायक नबाम टूकी ने घटनास्थल पर खुद मौजूद रहकर बचाव कार्य का निरीक्षण किया।

प्रदेश के मुख्यमंत्री पेमा खांडू ने आपात राहत के तौर पर राज्य सरकार की ओर से मृतकों के परिवारों को 10 लाख रुपए दिए है। उन्होंने निजी तौर पर भी पीड़ितों को 30 लाख रुपए की मदद राशि प्रदान की।

गांव के लोगों से बातचीत में उन्होंने कहा कि घटना की जानकारी मिलते ही उन्होंने जिला प्रशासन और गृह तथा स्वास्थ्य विभाग को राहत तथा बचाव कार्य चलाने का निर्देश दे दिया था।

घटना में जिस घर के 14 लोग मारे गए है उसमें छह परिवार एक साथ रहते थे। वह सबसे लंबा और बड़ा आधुनिक पारंपरिक घर था जो कि 50 मीटर लंबा था। ‘नाम नमदा’ यानी निशी भाषा में ‘मुख्य घर’ में छह परिवार एक साथ रहते थे। हालांकि इन सभी परिवारों की रसोई अलग थी| इसके अलावा इस मुख्य घर के पीछे सभी परिवारों का निजी घर था।