15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस के मौके पर लालकिले के अंदर कोई घुसने का प्रयास न कर सके इसको ध्यान में रखते हुए दिल्ली पुलिस ने लाल किले के गेट के सामने कंटेनर्स की ऊंची दिवार लगा दी है।  

कंटेनर्स की इस दिवार की वजह से न तो कोई लालकिले के अंदर दाखिल हो पाएगा और न ही कोई अंदर झांक सकेगा।  15 अगस्त को लेकर सुरक्षा एजेंसियों ने अलर्ट जारी किया हुआ है और उसी को ध्यान में रखते हुए दिल्ली पुलिस ने बड़े बड़े कंटेनर्स की दीवार खड़ी कर दी है। 

दिल्ली पुलिस ने लाल किले के सामने जो बड़े बड़े कंटेनर्स की दीवार खड़ी की है उसे स्वतंत्रता दिवस से पहले सजाया जाएगा।  मिली जानकारी के अनुसार कंटेनर्स की दीवार पर स्वतंत्रता दिवस की थीम से जुड़ी हुई पेंटिंग्स की जाएंगी। 

दरअसल 26 जनवरी को गणतंत्रि दिवस के मौके पर किसान आंदोलन की आड़ में कई असमाजिक तत्व लाल किले में घुस गए थे और उस जगह पर अपने झंडे लगा दिए थे जहां पर भारत का ध्वज तिरंगा लगाया जाता है।  असमाजिक तत्वों ने 26 जनवरी को दिल्ली पुलिस के लोगों के साथ मारपीट भी की थी और कई जगहों पर पत्थरबाजी भी की थी।  15 अगस्त को ऐसा कुछ न हो सके, इसको ध्यान में रखते हुए दिल्ली पुलिस पहले से ही सतर्क है। 

किसान आंदोलन के बहाने इन दिनों विदेश में बैठे कुछ खालिस्तानी अलगावादी अपने चेहरे चमकाने में लगे हैं।  अब 15 अगस्त नजदीक है, इस मौके पर खालिस्तानियों ने फिर हरकतें शुरू कर दी हैं।  खालिस्तानी आतंकी गुरपतवंत सिंह पन्नू ने हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर को धमकी दी है कि वो स्वतंत्रता दिवस की दिन तिरंगा न फहराएं। 

गुरपतवंत सिंह पन्नू की तरफ से दी जा रही धमकी में कहा गया है कि मनोहर लाल खट्टर 15 अगस्त को झंडा न फहराएं, अपने घर पर ही रहें, यही उनके लिए अच्छा होगा।  ये धमकियां गुरपतवंत सिंह पन्नू के नाम से रिकॉर्ड की गई रेंडम फोन कॉल के जरिए दी जा रही हैं।  अब तक कई लोगों के मोबाइल फोन पर ऐसे कॉल आ चुके हैं।   इससे पहले पन्नू की तरफ से हिमाचल के मुख्यमंत्री को भी तिरंगा न फहराने की धमकी दी जा चुकी है। 

ऐसी धमकियों को ध्यान में रखते हुए सुरक्षा एजेंसियों ने पहले ही 15 अगस्त को लेकर सुरक्षा अलर्ट जारी किया हुआ है और उसी को ध्यान में रखते हुए दिल्ली पुलिस ने यह कदम उठाया है।