बिहार में सरकार बदलने से उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी (सपा) की उम्मीदें जागी हैं और हौसला बढ़ा है।सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव भाजपा-जद (यू) गठबंधन टूटने को भारतीय राजनीति के लिए एक ‘अच्छी शुरुआत’ के रूप में देखते हैं। उन्होंने कहा, यह एक अंत की शुरुआत है। यह स्वतंत्रता आंदोलन के दौरान दिए गए ‘अंग्रेजों भारत छोड़ो’ नारे की तर्ज पर ‘बीजेपी सत्ता छोड़ो’ का संकेत देता है।

ये भी पढ़ेंः तो क्या बिहार में शराब माफियाओं से जमकर वसूली कर रहे थे नीतीश कुमार, भाजपा के आरोप से सियासत हुई गर्म


कन्नौज में पत्रकारों से बात करते हुए अखिलेश ने कहा, हमारे समुदाय के लोगों को अब संस्थानों में पोस्टिंग नहीं मिल रही है और सभी भाजपा समर्थकों को विश्वविद्यालयों और शैक्षणिक संस्थानों में महत्वपूर्ण पदों पर नियुक्त किया जा रहा है। उन्होंने चेताया, यदि वे और अधिक शक्तिशाली हो जाते हैं, तो आपके वोट का अधिकार भी छीन लिया जा सकता है। लोगों को ऐसी संभावनाओं को हल्के में नहीं लेना चाहिए, क्योंकि भारत के पड़ोस में, कई देशों में ऐसा ही हो रहा है। अखिलेश ने सार्वजनिक उद्यमों को कॉर्पोरेट घरानों के हाथों बेचने के लिए सत्तारूढ़ भाजपा पर निशाना साधा और कहा कि भगवा पार्टी जिस तरह से रेलवे, हवाईअड्डों और एयरलाइंस जैसे सरकारी प्रतिष्ठानों को बेच रही है, एक समय आएगा, जब लोगों के साथ गुलामों जैसा सलूक किया जाएगा।

ये भी पढ़ेंः डेप्युटी सीएम पद की शपथ लेकर तेजस्वी यादव ने पैर छूकर लिया नीतीश कुमार का आशीर्वाद


अखिलेश ने कहा, अगर वे (भाजपा) पावर में रहे, तो हम सभी गुलाम बन जाएंगे। उन्होंने आगे कहा, आने वाले दिनों में सरकार आपका गेहूं नहीं खरीदेगी, निजी कंपनियां आपका गेहूं खरीदेंगी। सपा अध्यक्ष ने आगे कहा कि भाजपा सरकार गरीबों और किसानों की सरकार नहीं, अमीरों और कॉर्पोरेट घरानों की सरकार है। उन्होंने कहा, यह उद्योगपतियों की सरकार है। जब से भाजपा सत्ता में आई है, महंगाई बढ़ी है। डीजल-पेट्रोल से लेकर गैस सिलेंडर, दूध, दही-सब कुछ महंगा हो गया है। किसानों को कृषि में नुकसान हो रहा है। किसानों को फसलों की लागत का मूल्य नहीं मिल रहा है। इतना ही नहीं, भाजपा सरकार ने सेना में अग्निवीर योजना लाकर युवाओं को ठगा है। उन्होंने कहा, आने वाले समय में यह सरकार पुलिस और पीएसी की भर्ती में भी इसी तरह की योजना लाएगी। इस सरकार की नीयत सरकारी नौकरी भी ठेके पर कराने की है। युवाओं को नौकरी नहीं मिल रही है। बड़ी संख्या में युवा बेरोजगार हैं। भाजपा सरकार केवल उद्योगपतियों के फायदे के लिए काम कर रही है।