समाजवादी पार्टी (सपा) के अध्यक्ष अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) ने बुधवार को कहा कि उनकी पार्टी 2022 के विधानसभा चुनाव में उनके अलग हुए चाचा शिवपाल यादव (Shivpal Yadav Party)  की प्रगतिशील समाजवादी पार्टी लोहिया (पीएसपीएल) के साथ गठबंधन करेगी। अखिलेश यादव  (Akhilesh Yadav) ने यहां पत्रकारों को संबोधित करते हुए कहा कि सपा छोटे दलों के साथ भी गठबंधन करेगी।

यह पूछे जाने पर कि क्या वह अपने चाचा को सम्मान देंगे, अखिलेश यादव  (Akhilesh Yadav)  ने कहा कि शिवपाल यादव (Shivpal Yadav) को गठबंधन में पूरा सम्मान मिलेगा। अखिलेश यादव के इस बयान से उनके और उनके चाचा के बीच पांच साल से चल रहा कलह खत्म होने की उम्मीद है। शिवपाल यादव (Shivpal Yadav) जहां लगातार सपा से गठबंधन के संकेत देते हुए दिख रहे थे, वहीं अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav)  इस मुद्दे पर अभी तक चुप्पी साधे हुए थे। शुरूआत में उन्होंने शिवपाल के लिए सिर्फ एक सीट जसवंतनगर की पेशकश की थी।

मंगलवार को शिवपाल यादव (Shivpal Yadav) ने कहा कि अगर उनके समर्थकों को उचित सम्मान दिया गया तो वह अपनी पार्टी का सपा में विलय करने पर भी विचार करेंगे। अखिलेश यादव ने कहा कि ईंधन और सभी आवश्यक वस्तुओं की कीमतों में वृद्धि ने किसानों, महिलाओं, छात्रों, युवाओं और मध्यम वर्ग सहित समाज के सभी वर्गों के लिए समस्याएं पैदा की हैं। उन्होंने कहा, किसानों को खाद तक भी नहीं मिल पा रही है और सरकार को इस संकट की कोई चिंता तक भी नहीं है।