लखनऊ। उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव (Assembly elections in Uttar Pradesh) को लेकर सियासी पारा चढ़ता जा रहा है। कोई भी राजनीतिक पार्टी अपने विरोधियों पर हमला करने का कोई भी मौका नहीं छोड़ना चाहती। इसी कड़ी में पूर्व मुख्यमंत्री व सपा प्रमुख अखिलेश यादव (Former Chief Minister and SP chief Akhilesh Yadav) ने कानपुर के पूर्व कमिश्नर असीम अरुण (Asim Arun) के यूपी चुनाव (UP Election) में भाजपा के टिकट पर चुनाव लड़ने को लेकर हमला बोला है। 

उनका कहना है कि वे इस संबंध में चुनाव आयोग से शिकायत करेंगे। उन्‍होंने कहा क‍ि असीम के अलावा भाजपा में शामिल हुए सभी पुलिस अधिकारियों को हटाया जाए क्योंकि इससे चुनाव प्रभावित हो सकता है।

बता दें कि अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) ने रविवार को लखनऊ में एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि असीम अरुण के भाजपा में शामिल होने से साबित हो गया है कि वर्दी में कैसे कैसे लोग छुपे हुए हैं। बता दें कि भारतीय पुलिस सेवा से स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति ले कर अरुण ने भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह (Swatantra Dev Singh) और केन्द्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर (Union Minister Anurag Thakur) की मौजूदगी में भाजपा की सदस्यता ग्रहण कर ली।

गौर हो कि योगी सरकार से हाल ही इस्‍तीफा देकर पूर्व कैबिनेट मंत्री दारा सिंह चौहान (Dara Singh Chauhan) रविवार को अपने समर्थकों के साथ सपा में शामिल हो गए हैं। इसी तरह प्रतापगढ़ जिले के विधायक आरके वर्मा भी अखिलेश की पार्टी के साथ आ गए हैं। 

योगी आदित्‍यनाथ (Yogi Adityanath) ने मकर संक्रांति के अवसर पर गोरखपुर में एक दलित के घर खिचड़ी खाई थी। अखिलेश यादव ने इस पर भी तंज कसा था। उन्‍होंने कहा कि कैसी बेमन की तस्वीर थी जिसमें वह खिचड़ी खा रहे थे। उन्हें याद आ रहा होगा कि साबुन और शैंपू नहीं भिजवाया। यह जानते थे कि गरीब है हो सकता है न नहाया हो। दो तीन दिन से इसीलिए साबुन भिजवाया था।

गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश में सात चरणों में मतदान होना है। जिसकी शुरुआत 10 फरवरी से राज्य के पश्चिमी हिस्से के 11 जिलों की 58 सीटों पर मतदान के साथ होगी। दूसरे चरण में 14 फरवरी को राज्य की 55 सीटों पर मतदान होगा।

उत्तर प्रदेश में 403 सदस्यीय विधानसभा के लिए तीसरे चरण में 59 सीटों पर, 23 फरवरी को चौथे चरण में 60 सीटों पर, 27 फरवरी को पांचवें चरण में 60 सीटों पर, तीन मार्च को छठे चरण में 57 सीटों पर और सात मार्च को सातवें चरण में 54 सीटों पर मतदान होगा। बता दें कि 2017 के विधानसभा चुनाव में भाजपा को अकेले 312 और उसके सहयोगियों को 13 सीटों पर शानदार जीत मिली थी। वहीं समाजवादी पार्टी सिर्फ 47 सीटों पर सिमट गई थी।