कांग्रेस ने चिंतन शिविर में लिए अपने फैसलों को सख्ती से लागू करने के लिए कहा है। इस शिविर में लिए गए फैसलों के बारे में जानकारी देते हुए पार्टी के महासचिव अजय माकन ने कहा कि हमें ढांचागत बदलाव करने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि हमारा प्रयास है कि काम करने को वालों को इनाम दिया जाए और उनकी परफॉर्मेंस को ध्यान में रखते हुए ही फैसले लिए जाएं। कांग्रेस ने कहा कि हमने युवाओं को उचित प्रतिनिधित्व देने पर भी विचार किया है ताकि हर स्तर पर ऐसे लोगों को मौका मिल सके। उन्होंने कहा कि फिफ्टी अंडर 50 का हमारा फैसला नव संकल्प ही नहीं बल्कि दृढ़ संकल्प है।

यह भी पढ़ें : अरुणाचल में केवाईआईसी का काष्ठशिल्प, अगरबत्ती उद्योग को बढ़ाने का प्रयास

माकन ने कहा कि हम सभी पदाधिकारियों के लिए 5 साल में पद छोड़ने के नियम को सख्ती से लागू करेंगे। हालांकि उन्होंने इस मौके पर भी साफ कर दिया कि इस नियम से अध्यक्ष पद पर बैठे नेता को छूट होगी। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के संविधान में ही यह लिखा है कि अध्यक्ष लाइफटाइम के लिए हो सकता है।अजय माकन ने मीडिया से बात करते हुए कहा, 'लोकतंत्र के हथियार पिछले कुछ दशकों में बदल गए हैं और उसके साथ कदमताल करने के लिए बदलाव जरूरी हैं। आज कांग्रेस के महासचिवों की एक घंटे की मीटिंग हुई है। ऐसी ही एक बैठक कल भी होने वाली है। इसमें हम यह चर्चा कर रहे हैं कि कैसे नव संकल्प शिविर में लिए गए फैसलों को लागू किया जाए।'

उन्होंने कहा कि हमारा पहला काम यह है कि रिक्त पदों को 3 से 6 महीने के अंदर ही भर लिया जाए। इसके अलावा बूथ, मंडल और ब्लॉक कमेटियों का गठन किया। इलेक्शन मैनेजमेंट, पब्लिक इनसाइट डिपार्टमेंट समेत तीन विभागों का गठन किया जाएगा। पब्लिक इनसाइट डिपार्टमेंट के जरिए सर्वे किए जाएंगे। इससे फैसले लेने में मदद मिलेगी। इसके अलावा हर नेता के काम का आकलन होगा। सभी को टास्क दिया जाएगा और उसे हासिल करने का पैमाने ही प्रमोशन का आधार बनेगा। कांग्रेस ने फैसला कर लिया है कि एक व्यक्ति 5 साल से ज्यादा वक्त तक अपने पद पर नहीं रहेगा। एक व्यक्ति एक पद के फैसले को सख्ती से लागू किया जाएगा।

यह भी पढ़ें : मणिपुर में अब, विकलांग व्यक्ति आसानी से प्राप्त कर सकते हैं इलेक्ट्रॉनिक-UDIC

अब हर साल अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी का सम्मेलन होगा। 2 अक्टूबर से भारत भर में 3,000 किलोमीटर की भारत जोड़ो यात्रा निकाली जाएगी। यही नहीं आजादी की 75वीं वर्षगांठ पर हर नेता 9 अगस्त से 75 किलोमीटर की यात्रा निकालेगा।