इंडिया की महिलाएं किसी से कम नहीं है। इन्हें किसी भी मैदान मे उतार दो,  हमेशा जीत कर ही आती है और इतिहास रचती है। इसी तरह से एयर इंडिया की 4 महिला पायलटों ने भी इतिहास रच दिया है। दुनिया के सबसे लंबे हवाई मार्ग नॉर्थ पोल पर इंडिया की 4 महिला पायलटों ने उड़ान भरी और ऐसी उड़ान भरी की एक नया इतिहास रच डाला। अमेरिका के सैन फ्रांसिस्को से उड़ान भरी नॉर्थ पोल से होते हुए बेंगलुरु के केम्पेगौड़ा अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर पहुंची।


फ्रांसिस्को से बेंगलुरु तक का सफर करीब 16,000 किलोमीटर है। 16,000 किमी की दूरी त करने के बाद फ्लाइट के भारत में लैंड होते ही एयर इंडिया ने अपने ट्विटर हैंडल से स्वागत किया और लिखा 'वेलकम होम, हमें महिला पायलटों पर गर्व है। हम यात्रियों को भी बधाई देते हैं, जो इस ऐतिहासिक सफर का हिस्सा बने। बता दें कि इस विमान में महिला पायलट कैप्टन जोया अग्रवाल,  कैप्टन पापागरी तनमई, कैप्टन शिवानी और कैप्टन आकांक्षा सोनवरे थीं।


कैप्टन जोया अग्रवाल ने कहा 16,000 किमी की दूर तय करने और उत्तरी ध्रुव पर सफलतापूर्वक उड़ाने से विश्व इतिहास रचा है। हम इस इतिहास का हिस्सा बनकर गर्व महसूस कर रहे हैं। एयर इंडिया पायलट शिवानी ने कहा कि यह एक रोमांचक अनुभव रहा। फ्रांसिस्को से बेंगलुरु पहुंचने में लगभग 17 घंटे लग गलते हैं। जानकारी के लिए बता दें कि सिविल एविएशन मिनिस्टर हरदीप पुरी ने भी इसे लेकर ट्वीट किया कि 'सैन फ्रांसिस्को से बेंगलुरु तक का ये ऐतिहासिक सफर महिला पायलटों की वजह से वंदे भारत मिशन को और भी खास बनाती है।