बिलासपुर अंचलवासियों के लिए अच्छी खबर है। बिलासा एयरपोर्ट से हवाई सुविधाओं के विस्तार को अब पंख लगने लगे हैं, जिसकी शुरुआत बिलासपुर से भोपाल हवाई सुविधाओं में विस्तार से हो रही है। बिलासपुर से भोपाल के बीच अब सप्ताह में चार दिन हवाई सुविधा का लाभ अंचलवासियों को मिलेगा। एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया 5 जून से बिलासपुर से भोपाल के बीच उड़ान को मंजूरी दे दी है। बिलासा एयरपोर्ट प्रबंधन ने इसकी तैयारी शुरू कर दी है। हवाई सुविधा में विस्तार को लेकर इसे महत्वपूर्ण शुरुआत मानी जा रही है।

यह भी पढ़े : Rashifal : आज इन राशियों पर बरसेगी हनुमान जी और शनिदेव की कृपा, रुके हुए धन की प्राप्ति होगी


बिलासपुर से भोपाल के बीच सप्ताह में चार दिन हवाई सुविधाएँ मिलेंगी। सोमवार, मंगलवार, बुधवार और गुरुवार को बिलासपुर से भोपाल के लिए बिलासा एयरपोट्र से प्लेन रवाना होगा। विमानन कंपनी और केंद्रीय नागर विमानन मंत्रालय इसे तय करेगा। बिलासा एयरपोर्ट से सुबह 11:30 बजे भोपाल के लिए उड़ान भरी जाएगी। बिलासा एयरपोर्ट प्रबंधन से मिली जानकारी के अनुसार केंद्रीय नागर विमानन मंत्रालय से मिली मंजूरी के बाद उड़ान को लेकर शैड्यूल जारी कर दिया गया है। 3 जून को विमान भोपाल से उड़ान भरकर बिलासपुर पहुँचेगा।

यह भी पढ़े : Feng Shui for Positive Energy : घर में पॉजिटिविटी और धन-धान्य में वृद्धि के लिए इस तरह करें कपूर का इस्तेमाल


एक दिन का पूरा ठहराव एयरपोर्ट पर रहेगा। 5 जून को सुबह 11:30 बजे भोपाल के लिए एयरपोर्ट से उड़ान की शुरुआत होगी। जारी टाइम टेबल के अनुसार भोपाल से उड़ान भरकर विमान 3:45 बजे बिलासा एयरपोर्ट पहुँचेगा। शाम 4:15 बजे जबलपुर के लिए उड़ान भरेगा। बिलासा एयरपोर्ट से वर्तमान में बिलासपुर से दिल्ली, जबलपुर, प्रयागराज और बिलासपुर के लिए घरेलू उड़ान की सुविधाएँ मिल रही हैं। एलायंस एयर कंपनी द्वारा ये सुविधा दी जा रही हैं।

Ministry of civil Aviation 

 Ministry of Civil Aviation 

फोर सी श्रेणी के लिए यह काम है जरूरी

बिलासा एयरपोर्ट को थ्री सी से फोर सी श्रेणी में उन्नयन के लिए एयरपोर्ट में तकनीकी कार्यों के अलावा जमीन की जरूरत भी है। एयरपोर्ट में रनवे विस्तार के लिए अभी-भी 270 एकड़ जमीन की आवश्यकता है। यह जमीन वर्तमान में सेना के कब्जे में है। चकरभाठा बेसकैंट के लिए राज्य शासन ने सैन्य मंत्रालय को चकरभाठा, धमनी सहित आसपास के आठ गाँवों के किसानों और अपनी कुल 1173 एकड़ जमीन का आवंटन किया है। सैन्य मंत्रालय ने बेसकैंट का निर्माण प्रारंभ नहीं किया है। जब तक 270 एकड़ जमीन सेना नहीं मिलेगी, रनवे विस्तार का कार्य पूरा नहीं हो पाएगा। फोर सी श्रेणी के एयरपोर्ट के उन्न्यन के लिए रनवे विस्तार का कार्य आवश्यक है। रनवे का विस्तार 1490 मीटर से 2885 मीटर तक करने की योजना एयरपोर्ट प्रबंधन ने बनाई है।