यूपी चुनावों के रिजल्ट आने के बाद AIMIM को बड़ा झटका लगा है। विधानसभा चुनाव में पार्टी के एक मात्र उम्मीदवार शाह आलम ने असदुद्दीन ओवैसी का साथ छोड़ दिया है। गुड्डू जमाली ने फिर से बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) का दामन थाम लिया है। आपको बता दें कि जमाली वो ही एकमात्र उम्मीदवार हैं जिनकी जमानत बची थी।

आजमगढ़ की मुबारकपुर सीट से शाह आलम ही एक मात्र उम्मीदवार थे जिन्होंने पार्टी की लाज बचाई थी। यूपी की 403 विधानसभा सीटों में असदुद्दीन ओवैसी ने 100 से ज्यादा प्रत्याशी उतारे थे, सिर्फ गुड्डू जमाली ही अपनी जमानत बचा पाए थे।

यह भी पढ़ें : भारत से अब कांपेगा चीन, अरूणाचल में BRO बिछा रहा इतनी सड़कों का जाल

गुड्डू जमाली चौथे नंबर पर रहे थे और उन्हें 36419 वोट मिले। इस सीट से समाजवादी पार्टी के अखिलेश ने परचम लहराया, जबकि बहुजन समाज पार्टी दूसरे और बीजेपी को तीसरे स्थान से संतोष करना पड़ा था। बता दें कि आजमगढ़ की सभी 10 सीटों पर समाजवादी पार्टी ने कब्जा जमाया है।

यह भी पढ़ें :  अरुणाचल ने गुजरात में गाड़ दिए झंडें, National Bench Press में जीते 7 मेडल

इधर, यूपी चुनाव में करारी हार पर मंथन के लिए बसपा सुप्रीमो मायावती ने लखनऊ में आज (27 मार्च)  बैठक बुलाई है। बताया जा रहा है कि इस बैठक में मायावती कुछ बड़े फैसले कर सकती हैं। गौरतलब है कि प्रदेश की 403 विधानसभा सीटों में से सिर्फ एक सीट पर ही बीएसपी जीत दर्जकर पाई है। इस शर्मनाक प्रदर्शन के बाद कहा जा रहा है कि बीएसपी के वोटबैंक का एक बड़ा हिस्सा भाजपा और अन्य पार्टियों में शिफ्ट हो चुका है।