पूर्व मुख्यमंत्री के आॅफर को दूसरे पूर्व मुख्यमंत्री ने यह कहते हुए ठुकरा दिया कि असम गण परिषद कतई कांग्रेस की बी टीम नहीं बन सकती है। जी हां! अगप-भाजपा के बीच मित्रता को लेकर भाजपा नेता डा. हिमंत विश्व शर्मा द्वारा अगप का मखौल उड़ाने के बाद पूर्व मुख्यमंत्री तरुण गोगोई ने अगप को कांग्रेस के साथ मित्रता करने का आॅफर दिया था जिसे आज पूर्व मुख्यमंत्री तथा अगप के मौजूदा विधायक प्रफुल्ल कुमार महंत ने ठुकरा दिया है।

बुधवार को यहां संवाददाताओं के साथ हुई बातचीत के दाैरान अगप के कद्दावार नेता महंत ने कहा कि तृणमूल स्तर पर अगप की पकड़ मजबूत है तथा भाजपा सहित कांग्रेस को अच्छी टक्कर देने का माद्दा रखती है। एेसे में गोगोई ने अगप को कांग्रेस के साथ मित्रता का जो आॅफर दिया है, अगप को इसकी कोई जरूरत नहीं है।

अगप-भाजपा की मित्रता के संबंध में दो दफे सूबे के मुख्यमंत्री रहे महंत ने कहा कि शुरूआती दौर में भाजपा ने ही चुनाव में अकेले लड़ने की बात कही थी। भाजपा को पहले ही सहयोगी अगप के साथ मित्रता बरकरार रखते हुए चुनाव लड़ने का फैसला लेना चाहिए था। भाजपा ने अपने दम पर चुनाव लड़ने का फैसला लेने के बाद अगप को वही फैसला लेना पडा़।