राजनीतिक दल असम गण परिषद आज 34 वर्षीय हो गया। सन 1985 कोे 14 अक्टूबर को इस दल का गठन हुआ था। इस मौके पर सोमवार को आमबाड़ी स्थित अगप मुख्यालय सहित राज्यभर की पार्टी इकाइयों ने अपना 34 स्थापना दिवस का आय़ोजन किया। वहीं, बंगाईगांव जिले के उत्तरी अभयापुरी में केंद्रीय कार्यक्रम का आयोजन हुआ, जिसमें भाग लेते हुए पार्टी अध्यक्ष अतुल बोरा ने कहा कि मित्रता की राजनीति समय की मांग है।

क्षेत्रीयतावाद राजनीति देश के मौजूदा समय की अभिन्न अंग है। सोमवार को पार्टी की स्थापना दिवस के केंद्रीय कार्यक्रम को संबोधित करते हुए पार्टी अध्यक्ष तथा मित्रदल की सरकार में कृषि मंत्री अतुल बोरा ने कहा कि राज्यवासियों के भाव और आवेग का सम्मान करते हुए पार्टी को आगे बढ़ाकर ले जाया जाएगा। तमाम खट्टे-मिट्ठे अनुभव से गुजरने का मौका दिया है। ऐसे में वर्तमान स्थिति के अनुसार राजनीतिक निर्णय लेते हुए पार्टी आगे बढ़ेगी। उन्होंने कहा कि अगप स्थानीय मूल निवासियों  के  सुरक्षित भविष्य के लिए हमेशा से  वचनबद्ध है।
अपने भाषण प्रसंग में अगप अध्यक्ष ने कहा कि असम समझौते का क्रियान्वयन होना ही होगा। असम आंदोलन के शहीदों के बलिदान को बेकार नहीं जाने दिया जाएगा। उन्होंने सभी स्तर के लोगों को क्षेत्रीय पार्टी असम गण परिषद के प्रति अपना भरोसा बनाए रखने तथा आने वाले दिनों में सहयोग बरकरार रखने की अपील भी की।