Uttar Pradesh में भाजपा बहुमत से सरकार फिर बनने को तैयार है लेकिन  सरकार बनने से पहले ही राज्य में हंगामा मचाना शुरू हो गया है। खबर प्रयागराज जिले से हैं, जहां चुनाव के नतीजों के बाद बीजेपी ने शानदार प्रदर्शन करते हुए भारी जीत दर्ज की। ऐसे में हर जगह कार्यकर्ता जीत के जश्न के जुलूस में पर पथराव और लाठी डंडे से पिटाई की गई, जिसमें कई लोग घायल हो गए और एक युवक की मौत हो गई।
जहां पर बीजेपी कार्यकर्ता सतीश चौहान (21) की मौत के मामले में दूसरे दिन जमकर हंगामा हुआ। बड़ी संख्या में कार्यकर्ताओं ने पहुंचकर बहरिया थाने का घेराव करते हुए पुलिस के खिलाफ नारेबाजी की। आरोप लगाया कि पुलिस द्वारा दबाव बनाने के कारण परिजन हादसे में मौत की बात कह रहे हैं, जबकि वह बीजेपी की जीत के जश्न में निकले जुलूस पर हुए पथराव में जख्मी हुआ था।

यह भी पढ़ें- उमियम झील के संरक्षण के रोडमैप पर चर्चा, अब झील की बदलेगी सूरत


दरअसल, प्रयागराज में मृतक युवक के साथ मौजूद लोगों ने पुलिस को कई लोगों पर हमला करने और युवक की हत्या करने का आरोप लगाया है। इस दौरान पुलिस ने युवक की डेड बॉडी को अब दूसरी तहरीर के आधार पर पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया है। इस मामले में SSP प्रयागराज ने बताया कि अब इस घटना की तफ्तीश की जा रही है।
BJP कार्यकर्ताओं ने किया थाने का घेराव

प्रयागराज में हुई इस घटना के बाद गंगापार बीजेपी कार्यकर्ताओं में काफी आक्रोश है। वहीं, घटना के विरोध में थाने पर प्रदर्शन करते हुए थाना बहरिया के इंस्पेक्टर और एसआई संजय यादव पर बीजेपी कार्यकर्ता सुनील कुमार पासी अनुसूचित मोर्चा के मंडल अध्यक्ष व प्रवीण कुमार पाल पिछड़ा मोर्चा मंडल अध्यक्ष ने पीटने का आरोप लगाया है। साथ ही एक पक्षीय कार्रवाई करने का आरोप भी लगाया है, इसलिए दोनों को सस्पेंड किए जाने की मांग पुलिस के आला अधिकारियों से बीजेपी कार्यकर्ताओं ने की है।



यह भी पढ़ें- ऑल सुमी स्टूडेंट्स यूनियन रखेगा सरकार द्वारा संचालित स्कूलों पर पेनी नजर


पुलिस ने BJP कार्यकर्ता की शिकायत पर दर्ज की FIR

वहीं, पुलिस को दी गई तहरीर में मृतक युवक की एक्सीडेंट नहीं, बल्कि हत्या करने का आरोप लगाया गया है। घटना के सामने आने के बाद पुलिस ने अपनी जांच-पड़ताल शुरू कर दी है। ऐसे में मृतक के पोस्टमॉर्टम के बाद ही बात साफ हो पाएगी युवक की हत्या हुई है या सड़क हादसे में मौत हुई है। इस मामले पर SSP का कहना है कि आरोपों की निष्पक्ष जांच के लिए शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है।