नई दिल्ली। वायु सेना ने एक प्रशिक्षु अधिकारी के अपने कमरे में मृत पाए जाने से संबंधित मामले में कहा है कि अंडर ट्रेनिंग फ्लाइंग ऑफिसर अंकित कुमार झा को कदाचार का दोषी पाए जाने के बाद प्रशिक्षण बीच में ही समाप्त कर उसे बर्खास्त कर दिया गया था। वायु सेना ने रविवार देर रात एक वक्तव्य जारी कर कहा कि मीडिया में बेंगलुरू स्थित वायु सेना के तकनीकी कॉलेज में अंडर ट्रेनिंग फ्लाइंग अफसर अंकित कुमार झा की 21 सितम्बर को मौत से संबंधित खबर आ रही है। 

यह भी पढ़े :  सोनिया गांधी से मिले मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और लालू यादव, बोले - बीजेपी को हटाना है, देश को बचाना है

वक्तव्य में कहा गया है कि अंकित झा फरवरी 2021 में वायु सेना में भर्ती हुआ था और गत 20 सितंबर को उनका प्रशिक्षण रोककर उन्हें बर्खास्त कर दिया गया और इस बारे में उनके पिता को भी सूचना दी गई थी। उन्हें कोर्ट ऑफ इंक्वायरी की सिफारिश पर बर्खास्त किया गया है। इस इंक्वायरी का गठन अंकित झा की सहयोगी महिला ट्रेनी अधिकारी द्वारा गत 30 जून को की गई शिकायत के बाद किया गया था। इंक्वायरी में अंकित झा कदाचार के कृत्य में लिप्त पाए गए थे। 

इंक्वायरी की कार्यवाही की कई स्तर पर जांच के बाद इसे वायु सेना मुख्यालय में स्थापित प्रक्रिया के तहत मंजूरी दी गई थी। नियमों के अनुसार इस दुर्भाग्यपूर्ण घटना के बारे में अंकित झा के परिवार को जानकारी देने के लिए एक अधिकारी को नामित किया गया था। अंकित झा का पोस्टमार्टम 23 सितंबर को किया गया और उसकी रिपोर्ट का इंतजार किया जा रहा है। अंकित झा की मौत के कारणों का पता लगाने के लिए कोर्ट ऑफ इंक्वायरी का गठन किया गया है। 

यह भी पढ़े :  सोनिया गांधी से मिले मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और लालू यादव, बोले - बीजेपी को हटाना है, देश को बचाना है

शनिवार को अंकित झा के परिजन वायु सेना के तकनीकी कॉलेज में गए थे और उन्हें घटना के बारे में सभी जानकारी दी गई। वक्तव्य में कहा गया है कि वायु सेना इस दुर्भाग्यपूर्ण घटना पर पीड़ित परिवार के प्रति संवेदना व्यक्त करती है। वायु सेना इस मामले में पुलिस द्वारा की जा रही जांच में सहयोग कर रही है। उल्लेखनीय है कि अंकित झा के परिवार ने वायु सेना के छह अधिकारियों के खिलाफ पुलिस में प्राथमिकी दर्ज कराई है।

Demo Pic