श्रीनगर। जम्मू कश्मीर में गैर-स्थानीय मतदाताओं के समावेश के मुद्दे पर विचारविमर्श के लिए नेशनल कांफ्रेंस (नेकां) के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला के आह्वान पर आयोजित सर्वदलीय बैठक जारी है। सर्वदलीय बैठक में पीपल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) की अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती, कांग्रेस पार्टी प्रदेश अध्यक्ष वकार ररुल, माक्र्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी से एम वाई तारीगामी, अवामी नेशनल कांफ्रेंस से मुअफ्फर शाह और जम्मू कश्मीर शिव सेना के अध्यक्ष मनीष साहनी शामिल हैं। 

ये भी पढ़ेंः टीम इंडिया को मिली बड़ी राहत, एशिया कप से बाहर हुआ पाकिस्तान का ये तूफानी गेंदबाज, जानिए कैसे

पीपुल्स कांफ्रेंस से सज्जाद लोन और अपनी पार्टी के अध्यक्ष अल्ताफ बुखारी ने हालांकि बैठक से दूरी बनायी है। सर्वदलीय बैठक में भाग लेने से पहले नव नियुक्त जम्मू कश्मीर कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि पार्टी प्रदेश में गैर-स्थानीय मतदाताओं को मतदान सूची में जोडऩे के खिलाफ है। शिव सेना नेता साहनी ने कहा कि मौजूदा सरकार डोगरा, कश्मीरियों और गुर्जरों की पहचान को विकृत कर रही है। 

ये भी पढ़ेंः तो क्या गुजरात रणजी टीम के अनुभवी खिलाड़ी को दी जाएगी भारतीय टीम की कप्तानी, जानें पूरा मामला


साहनी ने अब्दुल्ला के आवास के बाहर संवाददाताओं से कहा, 'जम्मू-कश्मीर संकट में है और लोकतंत्र में जनता सर्वोच्च हैं और हमें अपनी विचारधाराओं के बावजूद जनता की मदद के लिए एकजुट होना होगा।' इसके अलावा भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने मौजूदा राजनीतिक हालात पर चर्चा के लिए श्रीनगर में अलग से बैठक भी बुलाई है। केन्द्रशासित प्रदेश में गैर स्थानीय लोगों को मतदाता सूची में शामिल करने पर मुख्य चुनाव अधिकारी के बयान के बाद राजनीतिक गरमा गयी है।