तालिबान द्वारा अफगानिस्तान के उच्च शिक्षा मंत्रालय के कार्यवाहक मंत्री के रूप में नियुक्त किए गए अब्दुल बकी हक्कानी ने कहा कि महिला छात्रों के लिए कक्षाएं पुरुषों से अलग होंगी। सरकारी और निजी विश्वविद्यालयों के अधिकारियों और मंत्रालय के कर्मचारियों से बात करते हुए, हक्कानी ने कहा कि अफगान लड़कियों को पढऩे का अधिकार है, लेकिन वे लडक़ों के साथ एक ही कक्षा में नहीं पढ़ सकती हैं।

उन्होंने कहा कि छात्राओं के लिए सुरक्षित शैक्षणिक वातावरण उपलब्ध कराया जाएगा। रिपोर्ट के अनुसार, इस बीच, पूर्व उच्च शिक्षा मंत्रालय, अब्बास बसीर ने उसी कार्यक्रम में कहा कि तालिबान ने शिक्षा क्षेत्र और उच्च शिक्षा मंत्रालय में पिछले दो दशकों की उपलब्धियों को संरक्षित करने का वादा किया है।

बसीर ने कहा, उच्च शिक्षा मंत्रालय ने सिस्टम-मेकिंग के मामले में किसी भी अन्य विभागों की तुलना में बेहतर प्रगति की है। हालांकि, निजी विश्वविद्यालयों के केंद्रीय अधिकारियों ने कहा कि अधिकांश कानून निजी विश्वविद्यालयों पर लागू किए गए हैं और उन्होंने नए कार्यवाहक मंत्री से अगली सरकार में इस समस्या का समाधान करने का आग्रह किया। निजी विश्वविद्यालयों के संघ के प्रमुख तारिक कुमा ने कहा, बड़ी समस्या कानूनों में है और हम चाहते हैं कि मंत्रालय के अधिकारी उन्हें जल्द ही फिर से लिखें। नए कार्यवाहक उच्च शिक्षा मंत्री ने कहा कि विश्वविद्यालयों को जल्द ही फिर से खोल दिया जाएगा और व्याख्याताओं और मंत्रालय के कर्मचारियों के वेतन का भुगतान किया जाएगा।