पहली पत्नी की बीमारी से मौत की अफवाह फैलाकर थानेदार ने दूसरी शादी कर ली. जब इसका पता दूसरी पत्नी को लगा और उसने विरोध किया तो प्रताडि़त करने लगा. मारपीट करने लगा. बात-बात में अपनी सर्विस रिवाल्वर तान देता था और उसके पिता को जान से मारने की धमकी भी देता था. यह मामला मुजफ्फरपुर जिले का है. आरोपी करजा थानेदार मणिभूषण कुमार हैं.

आरोपी थानेदार की दूसरी पत्नी लवली सिंह ने महिला थाना में एफआईआर दर्ज कराई है. इसमें उन्होंने पति पर प्रताडऩा, मारपीट और ठगी करने का आरोप लगाया है. इसके अलावा अप्राकृतिक यौनाचार का भी गंभीर आरोप लगाया है. महिला थानेदार नीरू कुमारी ने स्नढ्ढक्र दर्ज कर जांच शुरू कर दी है. स्स्क्क जयंतकांत ने बताया कि केस दर्ज हो गया है. जांच कर आगे की कार्रवाई की जा रही है.

पीडि़ता लवली ने बताया, औराई थाना के मधुबन बेशी की रहने वाली हूं. पिता पवन कुमार शाही व्यवसायी है. 2019 में मणिभूषण के लिए रिश्ता आया था. बताया गया था कि वह शादीशुदा है. उसे दो साल की एक बेटी है, लेकिन बीमारी के कारण पहली पत्नी की मौत हो चुकी है. इसलिए दूसरी शादी करना चाहता है. परिवार वालों ने सोचा कि लड़का दारोगा है और पत्नी भी मर चुकी है. इसलिए शादी को तैयार हो गए. 15 मई 2019 को एक मंदिर में दोनों की शादी हुई. इसके बाद वह मुझे लेकर सीतामढ़ी स्थित अपने आवास चले गए. फिर कुछ दिन बाद जब वह बोचहां थानेदार बने तो अहियापुर में किराए का कमरा लिया और मुझे लाकर रखा.'

पहली पत्नी का आया कॉल, तब खुला मामला

उन्होंने बताया, बोचहां के बाद मणिभूषण की पोस्टिंग ब्रह्मपुरा थाने में हुई. इसके बाद फिर उसने मुझे सीतामढ़ी भेज दिया. इसी दौरान पिछले साल एक कॉल आया. कॉल करने वाली ने अपना नाम सीमा बताया और कहा कि वह मणिभूषण की पहली पत्नी है. तुम लोगों से झूठ बोलकर शादी की गई है. अभी जीवित है. इसके बारे में जब मणिभूषण से इसके बारे में बात की तो वह सीतामढ़ी पहुंचा और मारपीट करने लगा. जबरन सम्बन्ध भी बनाया. मेरे प्रति सास-ससुर का व्यवहार बदला गया.

एक बार हो चुकी है पंचायत

इसके बाद इसी मुद्दे को लेकर पंचायत भी हुई, लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ. वहीं, लवली के पिता ने कहा, जब मैंने मणिभूषण से इस सम्बंध में बात करने की कोशिश की तो सर्विस रिवाल्वर तान दिया. धमकी दी. इसके बाद उन लोगों ने पुलिस की शरण में जाना जरूरी समझा. फिर औराई थाना में एफआईआर दर्ज कराने गए.

एक सप्ताह तक थानेदार ने दौड़ाया

उन्होंने औराई थानेदार राजेश कुमार पर आरोप लगाया कि एक सप्ताह तक आवेदन में त्रुटि बताकर बेवजह दौड़ाया गया. इसके अलावा बेरुखी से पेश आते थे और बदतमीजी भी करते थे. आखिरकार टालमटोल करते उनका केस भी दर्ज नहीं किया.

आईजी से मिलकर की शिकायत

इसके बाद पीडि़ता ने आईजी गणेश कुमार और एसएसपी जयंतकांत से मिलकर इसकी शिकायत की. उन्होंने पीडि़ता की बातें सुनी और उचित कार्रवाई का आश्वासन दिया. इसके बाद महिला थानेदार को केस दर्ज करने का आदेश दिया. तब जाकर एफआईआर दर्ज हुई.

थानेदार की नौकरी पर उठाया सवाल

पीडि़ता ने कहा, मणिभूषण मूल रूप से मुजफ्फरपुर जिले के मनियारी थाना क्षेत्र के बलरा किशुन गांव का रहने वाला है. उसके पिता ने सीतामढ़ी में घर बनाया है. नौकरी वह सीतामढ़ी वाले एड्रेस पर करता है और शादी उसने मनियारी वाले पते पर की थी. इसकी रसीद भी है. आखिर होम डिस्ट्रिक्ट में वह कैसे नौकरी कर रहा है. इसमें भी वह झूठ बोलकर नौकरी कर रहा है.