गुजरात चुनाव में अहम भूमिका निभाने वाले मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की भाजपा में लोकप्रियता तेजी से बढ़ती जा रही है। यही कारण है कि त्रिपुरा विधानसभा चुनाव में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बाद सबसे बड़े स्टार प्रचारक के रूप में योगी को देखा जा रहा है।

पार्टी सूत्रों के अनुसार खुद वहां के नेताओं ने सीएम योगी की जनसभाओं के लिए मांग की है। योगी की लोकप्रियता और राज्य के सियासी समीकरणों को देखते हुए अब बीजेपी जनवरी में पीएम मोदी की रैलियों के बाद योगी आदित्यनाथ की कई रैलियों के अयोजन की तैयारी कर रही है।

दरअसल त्रिपुरा में 35 परसेंट बंगाली नाथ संप्रदाय के लोग हैं। यह वही नाथ संप्रदाय है, जिसे सीएम योगी ने अपनाया है। गोरखपुर का गोरक्षनाथ मंदिर भी नाथ संप्रदाय का ही है। लिहाजा बीजेपी की रणनीति है कि इस वोट बैंक को सीएम योगी की रैलियों से साधा जाए।